हिसार: गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी में कुश्ती के महादंगल का समापन, ये रहे विजेता

हिसार के गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी में 14 नवंबर से शुरू हुई ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी रेस्लिंग फ्रीस्टाइल व मैन ग्रीको रोमन चैंपियनशिप का सोमवार को शानदार ढंग से समापन हो गया. 

हिसार: गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी में कुश्ती के महादंगल का समापन, ये रहे विजेता
हिसार के जीजेयू में कुश्ती के विजेताओं को पुरस्कृत करते अतिथिगण.

हिसार: हिसार के गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी में 14 नवंबर से शुरू हुई ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी रेस्लिंग फ्रीस्टाइल व मैन ग्रीको रोमन चैंपियनशिप का सोमवार को शानदार ढंग से समापन हो गया. चैम्पियनशिप में फ्री स्टाइल कुश्ती महर्षि दयानन्द यूनिवर्सिटी यानि MDU रोहतक ने 118 अंक से जीती, वहीं ग्रीको रोमन चैम्पियनशिप पर सावित्री बाई फूले यूनिवर्सिटी पुणे ने 79 अंक के साथ कब्जा किया.

समापन समारोह में हिसार के विधायक डॉ कमल गुप्ता, यूनिवर्सिटी की एलुमनई और इंडिया फीमेल बॉडी बिल्डर एवं 2017 में रोडिज शो की विनर रही श्वेता महता और यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार डॉ आरके पुंडीर ने बतौर अतिथि शिरकत कीे.

समापन समारोह में विजेता पहलवानों को मेडल पहनाकर सम्मानित किया गया. सभी ने विजेता रहे पहलवानों का हौंसला भी बढ़ाया.कुश्ती के इस महादंगल में हर रोज मुकाबलों की रोचकता बढ़ती जा रही थी, एक पहलवान दूसरे पहलवान को अपने दाव पेच के दम पर चित करने की भरपूर कोशिश करता नजर आया.

गेस्ट बोले: हारने वाले हताश ना हो, मेहनत करें
कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि के रूप में शिरकत करने पहुंचे हिसार के विधायक डॉ कमल गुप्ता ने हार-जीत को एक सिक्के के दो पहलु बताया, उन्होंने इस बीच महाभारत काल का जिक्र करते हुए कहा कि कुश्ती का दंगल प्राचीन काल से ही चला आ रहा है.

उन्होंने जीजेयू में इतनी बड़ी प्रतियोगिता के आयोजन पर खुशी जाहिर की, साथ ही गुप्ता ने कहा कि हिसार को तमाम सुविधाओं से जोड़ कर स्पोर्टस के हब के रूप में बनाया जाएगा. उन्होंने कहा कि प्रतियोगिता में हारने वाले हताश ना हो, बल्कि मेहनत करें.

जीजेयू की एलुमनई और इंडिया फीमेल बॉडी बिल्डर एवं 2017 में रोडिज शो की विनर रही श्वेता महता ने भी पहलवानों का हौंसला बढ़ाया. उन्होंने कहा कि इस प्रकार से कंपीटिशन से एक पहलवान में आगे बढ़ने की भावना का संचार होता है, साथ ही उन्होंने इस बीच हरियाणा में सामने आ रहे नशों के मामलों पर भी चिंता जाहिर की. श्वेता ने कहा कि यूनिवर्सिटी कैंपस में इतने बड़े आयोजन को देख काफी अच्छा उन्हें लगा.

रजिस्ट्रार बोले, पहलवानों को बड़ा मौका दिया
जीजेयू के रजिस्ट्रार डॉ आरके पुंडीर ने कार्यक्रम के सफल आयोजन पर सभी को बधाई दी, डॉ आरके पुंडीर ने कहा कि उनका उदृदेश्य था कि बेहतर सुविधाएं तमाम पहलवानों को मिले और सौहार्द पूर्ण ढंग से यह चैम्यिनशिप संपन्न हो, जिसमें वो कामयाब रहे.

प्रतियोगिता के लिए विशेष हाईटैक उन सुविधाओं का इस्तेमाल किया गया था, जो इंटरनेशनल लेवल की प्रतियोगिता में होती है. साथ ही डॉ पुंडीर ने कहा कि पहलवानों को वो यहीं कहेंगे कि अपनी मेहनत जारी रखे, मेहनत से ही आगे बढ़ा जा सकता है.उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी ने पहलवानों को अपनी प्रतिभा साबित करने के लिए एक बड़ा प्लेटफार्म दिया था.

विजेता पहलवान और कोच का ये रहा अनुभव
प्रतियोगिता में हिस्सा बनने के लिए दूसरे प्रदेशों से ​जीजेयू में पहुंचे अलग—अलग कोच और पहलवानों ने भी यहां मिली सुविधाओं की जमकर तारीफ की. शिवाजी यूनिवर्सिटी, कोलापुर महाराष्ट से आएं पहलवान आतेश पाटिल ने कहा कि उन्हें प्रतियोगिता में मेडल मिला है.

सुविधाएं अच्छी थी. इसी यूनिवर्सिटी से टीम मैनेजर पदयव बाजीराव ने कहा कि पहलवानों का लक्ष्य केवल मेहनत होना चाहिए. उन्होंने कहा कि हरियाणा में आकर उन्हें अच्छा लगा. यूपी के गोरखपुर की दीन दयाल यूनिवर्सिटी के डॉ मदन सिंह चौहान और डॉ मणिद्र कुमार का कहना था कि उनकी यूनिवर्सिटी की टीम दोनों मुकाबलों में भाग लेने आई है, यहां व्यवस्थाएं अच्छी थी. इससे पहले भी वो प्रतियोगिताओं में शामिल होने आ चुके है, लेकिन जीजेयू में हुए इस महामुकाबलों में अच्छा अनुभव रहा.

यह रहे पूरी प्रतियोगिता में परिणाम
जीजेयू के स्पोर्टस डॉयरेक्टर डॉ शशि लूथरा ने बताया कि चैम्पियनशिप में फ्री स्टाइल कुश्ती महर्षि दयानन्द यूनिवर्सिटी रोहतक ने 118 अंक से जीती, वहीं ग्रीको रोमन चैम्पियनशिप पर सावित्री बाई फूले यूनिवर्सिटी पुणे ने 79 अंक के साथ कब्जा किया. अलग-अलग वेट के मुकाबलों में भाग लेने के लिए देश भर की 168 यूनिवर्सिटी से 1500 से ज्यादा पहलवान हिसार पहुंचे थे. उन्होंने बताया कि फ्री स्टाइल कुश्ती प्रतियोगिता के चौथे दिन 92 किलोग्राम भारवर्ग में सीआरएसयू, जींद के कृष्ण ने स्वर्ण पदक हासिल किया.

मदवि, रोहतक  के अजय ने रजत पदक प्राप्त किया. टीआईएम, ग्वालियर के अभिषेक पंवार व देवनागरी विश्वविद्यालय कर्नाटक के बासावासा ने कांस्य पदक हासिल किया. 97 किलोग्राम भारवर्ग में सीसीएसयू, मेरठ के अक्षय ने स्वर्ण पदक तथा आईपीएएचएस महाराष्ट्र के जगत घनघस ने रजत पदक हासिल किया.

बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय, रोहतक के दीपक व मदवि, रोहतक के अंकित मलिक ने कांस्य पदक हासिल किया. फ्री स्टाइल कुश्ती में 79 किलोग्राम भारवर्ग में आरआरबीयू, अलवर के राहुल राठी ने स्वर्ण पदक प्राप्त किया. डीबीए आगरा के उदयवीर ने रजत पदक हासिल किया.

ग्रीको रोमन प्रतियोगिता में 63 किलोग्राम भार वर्ग में संत बाबा बाग सिंह विश्वविद्यालय के होनीपाल सिंह ने स्वर्ण पदक हासिल किया. मदवि रोहतक के अनिल ने रजत पदक प्राप्त किया. शेर शिवाजी विश्वविद्यालय, कोल्हापुर के पतिल मनतिस मूरू व प्रताप विश्वविद्यालय, जयपुर के विश्वास ने कांस्य पदक हासिल किया.

82 किलोग्राम भारवर्ग में प्रताप विश्वविद्यालय, जयपुर के विकास शर्मा ने स्वर्ण पदक तथा संत बाबा बाग सिंह विश्वविद्यालय के कर्णदीप ने रजत पदक हासिल किया. एसएलआरएसआरएसयू, न्यू दिल्ली के हर्ष तथा जीएनडीयू, अमृतसर के अमरिन्द्र सिंह ने कांस्य पदक हासिल किया. समापन समारोह में विजेता खिलाड़ियों को सम्मानित किया.

ZPHH का जताया आभार
14 नवंबर से शुरू हुई इस प्रतियोगिता में जी पंजाब हरियाणा हिमाचल ने भी बतौर मीडिया पार्टनर भूमिका का निर्वहन किया है. जीजेयू के डॉयरेक्टर स्पोर्टस डॉ शशि लूथरा ने जी पंजाब हरियाणा हिमाचल के मिले साथ की भी जमकर तारीफ की, उनका कहना था कि अपने इतने साल के कार्यकाल में ऐसा सहयोग उन्हें कभी नहीं मिला. ZPHH ने उनका और पहलवानों का काफी हौंसला बढ़ाया है, इसके लिए वो इनके आभारी है.

आपकों बता दें कि गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी साइंस एवं टेक्नालॉजी के लिए जानी जाती है, लेकिन इस यूनिवर्सिटी में इतने बड़े लेवल की कुश्ती चैंपियनशिप के शांतिपूर्ण और सौहार्द भरे माहौल् के बीच संपन्न होना अपने आप में बड़ी बात है, यूनिवर्सिटी भी इसे अपने लिए एक बड़ी उप​लब्धि बता रही है. उम्मीद करते है भविष्य में ऐसी और भी प्रतियोगिताएं इस कैंपस में होगी और हिसार का नाम भारत में और भी ज्यादा रोशन होगा.