15 दिसंबर को आखिर जामिया की लाइब्रेरी में क्या हुआ था? सामने आया चौंकाने वाला VIDEO

जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी का दावा है कि पुलिस ने लाइब्रेरी में पढ़ रहे छात्रों पर बर्बरता की. 

15 दिसंबर को आखिर जामिया की लाइब्रेरी में क्या हुआ था? सामने आया चौंकाने वाला VIDEO
प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली: जामिया मिलिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) में 15 दिसंबर को छात्रों के साथ हुई कथित बर्बरता के दो महीने बाद चौंकाने वाला वीडियो सामने आया है. वीडियो में लाइब्रेरी में घुसकर पुलिस छात्रों पर डंडे भांजती दिखाई दे रही है. ये वीडियो जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी ने अपने ट्विटर हैंडल पर साझा किया है. वीडियो में दिखाई दे रहा है कि लाइब्रेरी में कुछ छात्र पढ़ाई कर रहे हैं उसी समय पुलिस लाइब्रेरी में प्रवेश करती है और छात्रों पर लाठियां बरसानी शुरू कर देती है.

हालांकि वीडियो में जो सबसे पहला छात्र नजर आ रहा है उसने मुंह पर रुमाल बांध रखा है. इन सब के बीच सोशल मीडिया पर यह सवाल उठ रहे हैं कि लाइब्रेरी में पढ़ाई कर रहा छात्र मुंह पर रुमाल बांधकर क्यों बैठा है. सोशल मीडिया पर यूजर्स वीडियो पर सवाल खड़े कर रहे हैं कि कौन से छात्र मुंह पर रुमाल बांधकर लाइब्रेरी में पढ़ाई करते हैं. स्पेशल कमिश्नर (क्राइम) प्रवीर रंजन ने कहा कि सोशल मीडिया के जरिए हमें एक वीडियो के बारे में पता चला है जिसे जामिया मिलिया इस्लामिया की लाइब्रेरी का 15 दिसंबर का बताया जा रहा है. हम मामले की जांच कर रहे हैं. 

वीडियो साझा करने वाली जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी का दावा है कि पुलिस ने लाइब्रेरी में पढ़ रहे छात्रों पर बर्बरता की. कमेटी ने ट्वीट किया, ''लाइब्रेरी में पढ़ाई कर रहे छात्रों के साथ बर्बरता का एक्सक्लूसिव CCTV फुटेज. यह लाइब्रेरी M.A/M.Phill सेक्शन, फर्स्ट फ्लोर, ओल्ड रीडिंग हॉल का है.'' कमेटी का दावा है कि यह वीडियो उस दिन का है जब जामिया में हिंसा भड़की थी. 

आपको बता दें कि वीडियो जारी करने वाली कमेटी का जामिया मिलिया इस्लामिया से कोई ताल्लुक नहीं है. हालांकि इस कमेटी मेंबर्स में कई पूर्व छात्र शामिल हैं. ये कमेटी CAA और NRC के खिलाफ जारी आंदोलनों को लीड कर रही है.