close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मनोहर पर्रिकर के बेटों ने राजनीति में आने के संकेत दिए, लड़ सकते हैं विधानसभा चुनाव

मनोहर पर्रिकर के बेटों ने शनिवार को बयान जारी कर संकेत दिये कि वह अपने पिता के देश और राज्य के प्रति समर्पण की विरासत को जारी रखने के लिये राजनीति में प्रवेश कर सकते हैं.

मनोहर पर्रिकर के बेटों ने राजनीति में आने के संकेत दिए, लड़ सकते हैं विधानसभा चुनाव
मनोहर पर्रिकर के बड़े बेटे उत्‍पल पर्र‍िकर को पणजी से टिकट देने की मांग की जा रही है. photo : Video grab

पणजी: गोवा के मुख्‍यमंत्री रहे दिवंगत मनोहर पर्रि‍कर के बेटे ने अब राजनीति में आने के संकेत दे दिए हैं. हालांकि जब तक पर्र‍िकर जीवित थे, तब तक उनके बेटे राजनीति से दूर थे. उनके छोटे बेटे विदेश में रहते हैं. अब कहा जा रहा है कि उनके बड़े बेटे उत्‍पल पर्रि‍कर राजनी‍त‍ि में किस्‍मत आजमा सकते हैं. स्‍थानीय बीजेपी यूनिट उन्‍हें ट‍िकट देने की मांग भी कर चुकी है. पर्रि‍कर के निधन से उनकी सीट खाली हो चुकी है. अगर उनके बेटे राजनी‍ति में आए तो संभव है कि वह पर्रि‍कर की सीट से ही चुनाव लड़ें.

अब मनोहर पर्रिकर के बेटों ने शनिवार को बयान जारी कर संकेत दिये कि वह अपने पिता के देश और राज्य के प्रति समर्पण की विरासत को जारी रखने के लिये राजनीति में प्रवेश कर सकते हैं. मनोहर पर्रिकर का लंबे समय तक आग्नेयाशय संबंधी बीमारी के कारण 17 मार्च को निधन हो गया था.

शरद पवार से सचिन तेंदुलकर की आधे घंटे तक मुलाकात, सामने आई पर्दे के पीछे की ये कहानी

पर्रिकर के निधन के बाद से ही गोवा में यह कयास लगने शुरू हो गए थे कि उनके पुत्र उत्पल और अभिजात के लोकसभा चुनाव या अपने पिता के निधन से बाद पणजी विधानसभा सीट से उपचुनाव लड़ सकते हैं. बेटों की ओर से जारी बयान में कहा गया है, "हम राज्य और राष्ट्र के लिए उनकी सेवा और समर्पण की विरासत को जारी रखते हुए उनके जीवन का सम्मान करेंगे."

मुख्यमंत्री कार्यालय से मीडिया के लिए जारी अपने संयुक्त पत्र में दोनों भाइयों ने यह भी कहा है कि भाजपा कार्यकर्ता दोनों भाइयों से ज्यादा उनके पिता के करीब थे. इस बात के गवाह वे तब बने जब 17 मार्च को पैंक्रियाटिक कैंसर से उनका निधन हो गया. पर्रिकर बंधुओं ने कहा, "हम सेवा और राज्य व राष्ट्र के प्रति उनके समर्पण की विरासत को आगे बढ़ाकर उनके जीवन का सम्मान बढ़ाएंगे."

पत्र के अनुसार, "हम गोवा सरकार, भारत सरकार, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, भाजपा, गठबंधन के साथियों और अन्य राजनीतिक पार्टियों के सदस्यों के प्रति आभार प्रकट करते हैं. इन सब से ऊपर हम हजारों कार्यकर्ताओं का उनके प्यार व स्नेह के लिए भी आभार प्रकट करते हैं. आप लोग हमेशा उनके आधार रहे."

मनोहर पर्रिकर के बड़े बेटे उत्पल पर्रिकर ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा था कि वह आने वाले समय में राजनीति में शामिल होने के बारे में निर्णय लेंगे.

input : Bhasha/IANS