close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रतलाम के कुंदन आश्रय गृह से भागीं 5 बच्चियां, अधीक्षिका पर लगाया प्रताड़ना का आरोप

आश्रय गृह को लेकर बड़े खुलासे होने की संभावना बढ़ गई है. मामले की जांच की जिम्मेदारी विशेष जांच दल (एसआईटी) को सौंपी गई है. 

रतलाम के कुंदन आश्रय गृह से भागीं 5 बच्चियां, अधीक्षिका पर लगाया प्रताड़ना का आरोप
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

रतलामः मध्य प्रदेश के रतलाम जिले के जावरा कस्बे में स्थित कुंदन कुटीर आश्रय गृह से पांच बच्चियों के फरार होने के बाद आश्रय गृह में बालिकाओं की स्थिति को लेकर सवाल खड़े होने लगे हैं. जावरा के कुंदन कुटीर आश्रय गृह की बालिकाओं ने आश्रय गृह की अधीक्षिका पर प्रताड़ना के आरोप लगाए हैं. बच्चियों का कहना है कि अधीक्षिका आए दिन लड़कियों को प्रताड़ित करती रहती है, जिसके चलते वह बच्चियां भाग गईं. ऐसे में आश्रय गृह को लेकर बड़े खुलासे होने की संभावना बढ़ गई है. मामले की जांच की जिम्मेदारी विशेष जांच दल (एसआईटी) को सौंपी गई है. 

बालिका गृह कांड : CBI कर सकती है कुछ अहम लोगों को गिरफ्तार, पूछताछ में मधु ने उगले कई नाम

पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी के अनुसार, जावरा का आश्रय गृह वर्ष 2015 में शुरू हुआ था. इस आश्रय गृह में अब तक 310 से ज्यादा बालिकाओं के आने की जानकारी मिली है. उन्होंने कहा कि यह बालिकाएं कहां से आई और बाद में कहां गई, किसके सुपुर्द की गई, इसका ब्यौरा जुटाया जाएगा. इसके लिए एसआईटी का गठन किया गया है. एसआईटी आगामी 15 दिन में जांच पूरी कर लेगी.

पटना आसरा होम केस : संचालिका मनीषा दयाल को हाईकोर्ट से मिली नियमित जमानत

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, 24 जनवरी को बालिका गृह से पांच बालिकाएं फरार हो गई थीं. इसके बाद बालिकाओं ने आरोप लगाया कि बालिका आश्रय गृह की अधीक्षिका उन्हें प्रताड़ित करती हैं. इस मामले में पूर्व में चार लोगों की गिरफ्तारी भी हो चुकी हैं. सूत्रों के अनुसार, जावरा आश्रय गृह में बालिका उत्पीड़न की शिकायत को प्रशासन और पुलिस ने गंभीरता से लिया है. इसके बाद लगातार आश्रय गृह से जुड़े लोगों से पूछताछ का दौर जारी है. पुलिस के मुताबिक अभी तक 4 लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है और जल्द ही और भी लोगों की गिरफ्तारी की आशंका है.