close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हनी ट्रैप मामले में बोले कंप्यूटर बाबा- निर्दोषों को फंसाने वालों के नाम सार्वजनिक हों

हनी ट्रैप मामले में कंप्यूटर बाबा का कहना है कि, 'इस मामले में कई निर्दोष लोगों को भी फंसाया गया है, इसलिए मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए.'

हनी ट्रैप मामले में बोले कंप्यूटर बाबा- निर्दोषों को फंसाने वालों के नाम सार्वजनिक हों

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता अब्बास हफीज के बाद अब कंप्यूटर बाबा ने भी हाईप्रोफाइल हनी ट्रैप मामले में शामिल सभी लोगों के नाम सार्वजनिक करने की मांग की है. हनी ट्रैप मामले में कंप्यूटर बाबा का कहना है कि, 'इस मामले में कई निर्दोष लोगों को भी फंसाया गया है, इसलिए मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए. ऐसे मामलों में दूध का दूध और पानी का पानी होना जरूरी होता है. इन महिलाओं ने जाल बिछाकर कई लोगों को ब्लैकमेल किया है, जो कि पूरी तरह से गलत है. मैं प्रदेश की कमलनाथ सरकार से इस मामले की निष्पक्ष जांच और आरोपियों का नाम सार्वजनिक किए जाने की मांग करता हूं. मुझे यकीन है कमलनाथ सरकार मामले की निष्पक्ष जांच कराएगी.'

इसके साथ ही कंप्यूटर बाबा ने प्रदेश के पूर्व मुखिया शिवराज सिंह चौहान पर भी निशाना साधा और कहा कि, 'मैं शिवराज जी से कहना चाहता हूं कि, आपने 15 साल के कार्यकाल में कुछ नहीं किया. अब 5 साल में कमलनाथ सरकार से सीखें कि सरकार कैसे चलती है और कैसे चलाई जाती है. सिर्फ घोषणाओं से कुछ नहीं होता, काम करना पड़ता है. कमलनाथ सरकार ने घोषणाएं नहीं, काम किया है. हम संतों के लिए शिवराज सरकार से कमलनाथ सरकार हजार गुना अच्छी है, क्योंकि उन्होंने 9 महीने में ही संतों का समागम किया.'

देखें LIVE TV

बता दें इससे पहले अब्बास हफीज ने कमलनाथ सरकार के गृहमंत्री बाला बच्चन पत्र लिखकर आरोपियों के नाम सार्वजनिक किए जाने की मांग की थी. अब्बास ने पत्र में लिखा था कि जिन पूर्व मंत्रियों, सांसदों एवं विधायकों के नाम इस मामले में सामने आ रहे हैं, उनके नाम सार्वजनिक किए जाएं.

जबलपुर दौरे पर CM कमलनाथ, BJP के बनवाए सुपर स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल का किया लोकार्पण

अब्बास हफीज का कहना है कि पिछले कई सालों में भाजपा के शासनकाल में प्रदेश के अपराध का स्तर काफ़ी बढ़ा है. उन्होंने कहा कि जनता को ऐसे नाम जानने का पूरा अधिकार है. उन्होंने कहा कि जिनको जनता ने चुना है उनका चाल, चरित्र और चेहरा असलियत में क्या है, यह जनता को पता चलना चाहिए ताकि भविष्य में वो ऐसे लोगों से बच सकें.