एक साल पूरा होने पर कमलनाथ सरकार ने जनता के सामने रखा 'विजन टू डिलिवरी रोड मैप 2020-2025'

'विजन टू डिलिवरी रोड मैप 2020-2025' में अगले पांच साल में 10 लाख नए रोजगार के अवसर पैदा करने की बात कही गई है.

एक साल पूरा होने पर कमलनाथ सरकार ने जनता के सामने रखा 'विजन टू डिलिवरी रोड मैप 2020-2025'
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि हमारी विजन की सरकार है, टेलीविजन की नहीं.

भोपाल: मध्यप्रदेश में कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को एक साल पूरा हो गया है. इसके अवसर पर राजधानी भोपाल के मिंटो हॉल में सरकार की उपलब्धियों को बताने के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. साथ ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने  'विजन टू डिलिवरी रोड मैप 2020-2025' प्रस्तुत किया. कार्यक्रम में सीएम कमलनाथ के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह भी मौजूद रहे. इस कार्यक्रम में बीते एक साल को लेकर किये गए काम और आगामी 4 साल में होने वाले विकास कार्यों को लेकर एक शॉर्ट फिल्म भी प्रस्तुत की गई. जिसके जरिये सरकार ने अपना विजन जनता के सामने रखा.

'विजन टू डिलिवरी रोड मैप 2020-2025' में अगले पांच साल में 10 लाख नए रोजगार के अवसर पैदा करने की बात कही गई है. 3.50 लाख जॉब मैन्युफैक्चरिंग तो 1.50 लाख सर्विस सेक्टर से रोजगार सृजित किए जाएंगे. इसके अलावा अन्य पांच लाख जॉब पर्यटन क्षेत्र से निकलेंगे. इन लक्ष्यों को हासिल करने के लिए मुख्यमंत्री खुद इस रोडमैप की सतत मॉनिटरिंग करेंगें. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि हमारी विजन की सरकार है, टेलीविजन की नहीं. हमें एक साल पहले खाली खजाना मिला था. हमने एक साल में वायदे पूरे किए है और आने वाले समय में हम माफिया मुक्त प्रदेश बनाएंगे, जिससे विकास के हर बिंदु को छुआ जा सके.  

विजन टू डिलिवरी रोड मैप 2020-25 में क्या-क्या होगा
बेंगलुरू सिलिकॉन सिटी की तर्ज पर प्रदेश में नई सिलिकॉन सिटी
'राइट टू वाटर' और 'राइट टू हेल्थ' में हर घर में शुद्ध पेयजल देंगे
प्रदेश के हर गांव में सड़क, बिजली और ब्रॉडबैंड इंटरनेट से युक्त किया जाएगा
डू इट योर सेल्फ गवर्नेंस के माध्यम से ई गवर्नेंस से वी गवर्नेंस की परिकल्पना
सूक्ष्म सिंचाई 5.27 लाख हेक्टेयर से बढ़ाकर 10 लाख हेक्टेयर करेंगे
सिंचित क्षेत्र का रकबा 40 से 65 लाख हेक्टेयर किया जाएगा
प्राथमिक शिक्षा में 100% नामांकन और 0% ड्रॉपआउट तय होगा
हर गांव-हर घर में 24 घंटे बिजली, पक्की सड़कें और ब्रॉडबैंड इंटरनेट सेवा मिलेगी
नवकरणीय ऊर्जा ग्रिड की क्षमता 4 हजार से 13 हजार मेगावाट करेंगे