close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: उफनती नदी में कागज की नाव की तरह पलट गया ट्रक, बाल-बाल बचे ड्राइवर और कंडक्टर

पानी के तेज बहाव मे ट्रक चालक अपनी जान हथेली मे लेकर ट्रक को पार करने मे लगा था, लेकिन नदी का बहाव काफी ज्यादा था, जिससे यह पानी के तेज बहाव के चलते आगे नहीं बढ़ पाया और थोड़ी दूर जाने के बाद पलट गया.

VIDEO: उफनती नदी में कागज की नाव की तरह पलट गया ट्रक, बाल-बाल बचे ड्राइवर और कंडक्टर
हादसे मे ट्रक चालक और कंडक्टर दोनों ही बाल-बाल बच गए और दोनों ट्रक के उपर आ गए.

देवेंद्र मिश्रा/धमतरीः ओडिशा में हो रही मूसलाधार बारिश का कहर अब धमतरी में देखने को मिल रहा है. जिसके कारण सीतानदी मे बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं और लोगों को यहां आवाजाही में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. सीतानदी का जलस्तर इन दिनों काफी बढ़ा हुआ है, जिससे नदी उफान पर है और इससे लोगों के बीच भय का माहौल बन गया है. नदी के ऊपर से गुजरने वाला पुल भी पूरी तरह से पानी में डूब गया है, जिससे लोग यहां से गुजरने से भी डर रहे हैं, लेकिन वाबजूद इसके लोग अपनी जान जोखिम में डालकर यहां से गुजरने का प्रयास कर रहे हैं.

लेकिन, नदी के पास मौजूद लोग उस वक्त हैरान रह गए, जब एक ट्रक नदी के बहाव से अनियंत्रित हो गया और पलट गया. नदी में यह ट्रक ऐसे पलटा जैसे कोई कागज की नाव हो. दरअसल, शनिवार की दोपहर नगरी बोराई मार्ग के बहीगांव के पास पानी के तेज बहाव मे ट्रक चालक अपनी जान हथेली मे लेकर ट्रक को पार करने मे लगा था, लेकिन नदी का बहाव काफी ज्यादा था, जिससे यह पानी के तेज बहाव के चलते आगे नहीं बढ़ पाया और थोड़ी दूर जाने के बाद पलट गया.

देखें वीडियो

भारत में काल बनकर आती है बाढ़, 64 सालों में ली 1 लाख जानें, और बिगड़ेंगे हालात

हालांकि इस हादसे मे ट्रक चालक और कंडक्टर दोनों ही बाल-बाल बच गए और दोनों ट्रक के उपर आ गए, लेकिन दोनों के हाथ ट्रक में फंस गए, जिसके बाद आस-पास मौजूद लोगों ने इनकी मदद करते हुए ट्रक से हाथ बाहर निकालने में मदद की. इस दौरान पानी के तेज बहाव के चलते लोगों को सड़क पार करना मुश्किल हो रहा था.

VIDEO: Truck fell down due to fast flow of the river

बिहार में बाढ़ से हुआ है भारी नुकसान, राज्य सरकार ने केंद्र से मांगे 2700 करोड़ रुपये

लोग काफी देर तक पानी के कम होने का इंतजार करते रहे. जैसे ही पानी की रफ्तार कम होने लगी वैसे ही लोग अपने अपने रास्ते निकल पड़े. फिलहाल जिला प्रशासन पहले से ही लोगों को सर्तक रहने की अपील कर रही है और बाढ़ जैसे हालात से निपटने के लिए तैयार होने की बात कर रहे हैं.