महंत नरेंद्र गिरि का हत्यारा कौन? आनंद गिरि ने पुलिस के सामने खोले कई बड़े राज

महंत नरेंद्र गिरि मौत मामले में प्रयागराज पुलिस लाइंस में आनंद गिरि से करीब 12 घंटे तक पूछताछ की गई. ZEE NEWS के पास आनंद गिरि से पूछताछ की पूरी जानकारी है.   

महंत नरेंद्र गिरि का हत्यारा कौन? आनंद गिरि ने पुलिस के सामने खोले कई बड़े राज
फाइल फोटो.

नई दिल्ली: अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत को लेकर जांच चल रही है. महंत नरेंद्र गिरि के मौत मामले में आनंद गिरि और आद्या तिवारी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आज दोपहर दो बजे खुदकुशी के लिए उकसाने के मामले में गिरफ्तार आरोपियों को कोर्ट में पेश किया जाएगा. इससे पहले प्रयागराज पुलिस लाइंस में करीब 12 घंटे तक आनंद गिरि से पूछताछ की गई. ZEE NEWS के पास आनंद गिरि से पूछताछ की पूरी जानकारी है.

आनंद गिरि से पुलिस ने पूछे ये सवाल

आनंद गिरि से यूपी पुलिस ने करीब 12 घंटे तक पूछताछ की. नरेंद्र गिरि के मौत मामले में आरोपी आनंद गिरि से से अलग-अलग अधिकारियों ने अलग-अलग पूछताछ की. नरेंद्र गिरि और आनंद गिरि के बीच विवाद की वजह उगलवाने की कोशिश की. आनंद गिरि को सुसाइड नोट भी दिखाया गया, नरेंद्र गिरि की हैंड राइटिंग को पहचानने की बात की गई. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पूछताछ में आनंद गिरि बस यही बोलते रहे कि महंत जी खुदकुशी नहीं कर सकते, ये हत्या है. किसी को उनकी हत्या से फायदा पहुंच रहा था, वो कौन है मुझे नहीं पता. 

ये भी पढ़ें- महंत नरेंद्र गिरि के शव का पोस्टमार्टम जारी, 12 बजे दी जाएगी भू समाधि

पुलिस ने आनंद गिरि और नरेंद्र गिरि के बीच मठ के उत्तराधिकार को लेकर विवाद पर भी सवाल पूछे. जिसमें आनंद गिरी ने बताया कि महंत जी के कहने के बाद जब तक उन्होंने मुझे माफ नहीं कर दिया, मैं श्री बड़े हनुमान जी के मंदिर नहीं गया. आनंद गिरि ने कहा, 'फिलहाल मेरा महंत से कोई विवाद नहीं था, महंत जी मुझे कभी परेशान भी नहीं लगे.'

क्या नरेंद्र गिरि को ब्लैकमेल किया गया? 

महंत नरेंद्र गिरि से ब्लैकमेलिंग के सवाल पर आनंद गिरि ने कहा कि मुझे फंसाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि ये मेरे खिलाफ बड़ी साजिश है. महंत आनंद गिरि, अध्या तिवारी और उसके बेटे संदीप तिवारी तीनों से एक साथ भी मंदिर के चंदे में गड़बड़ को लेकर पूछताछ की गई.

पैसों की हेराफेरी का मामला!

अध्या तिवारी और उसके बेटे संदीप तिवारी ने पुलिस को बताया कि महंत जी से उनका कोई विवाद नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि वो काफी लंबे वक्त से मंदिर के पुजारी हैं और गुरु जी उनपर बहुत विश्वास करते थे. एक हफ्ते पहले हुए झगड़े पर अध्या तिवारी और उनके बेटे ने बताया कि महंत जी ने दान और मंदिर के पैसों से हेराफेरी की बात बोली जरूर थी लेकिन बाद में जब उन्हें सच्चाई बताई गई तो वे मान गए थे, कोई नाराजगी नहीं थी.

यूपी पुलिस हरिद्वार आश्रम से आनंद गिरि के लैपटॉप, फोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स को भी कब्जे में लेकर फॉरेंसिक जांच के लिए भेज रही है. गनर अजय समेत सुरक्षा में तैनात 4 पुलिसकर्मियों से पूछताछ की गई. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.