पीएम मोदी से मुलाकात कर ममता बजर्नी ने दिया पश्चिम बंगाल आने का न्‍यौता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी की बैठक के दौरान एक अहम मुद्दा राज्‍य का नाम बदलना भी था. ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल का नाम बदलकर बंगला करवाना चाहती हैं.

पीएम मोदी से मुलाकात कर ममता बजर्नी ने दिया पश्चिम बंगाल आने का न्‍यौता
कोल प्रोजेक्‍ट के उद्घाटन के लिए मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पश्चिम बंगाल आने का निमंत्रण दिया है.

नई दिल्‍ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रखर विरोधियों की बात करें तो सबसे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी का नाम आता है. ममता बनर्जी लंबे समय से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार द्वारा लागू की जा रही योजनाओं की आलोचना करती रही हैं. वहीं, मंगलवार को जैसे ही यह खबर सामने आई कि मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने वाली हैं, सभी की निगाहें इन दोनों राजनेताओं की बैठक पर टिक गई. 

बुधवार को जैसे ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी की बैठक शुरू हुई, सभी इस बात की अटकलें लगानें में जुट गए कि राजनीति में धुर विरोधी इन राजनेताओं के बीच किन मुद्दों पर चर्चा होगी. इस बैठक के बाद मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने इन सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए बैठक में प्रधानमंत्री से हुई वार्ता की जानकारी मीडिया के साथ साझा की. उन्‍होंने बताया कि इस मुलाकात के दौरान उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पश्चिम बंगाल आने का निमंत्रण दिया है. 

उन्‍होंने बताया कि पश्चिम बंगाल में 6 कोल ब्‍लॉक में करीब 12000 करोड़ रुपए का निवेश हुआ है. यह देश का सबसे बड़ा प्रोजेक्‍ट है. इस प्रोजेक्‍ट से लोगों को नौकरियां मिलेंगी. उन्‍होंने बताया कि मैंने प्रधानमंत्री को इस कोल  ब्‍लॉक के उद्घाटन समारोह में शामिल होने का निमंत्रण दिया है. उन्‍होंने बताया कि इस प्रोजेक्‍ट का उद्घाटन दुर्गा पूजा के बाद होने वाला है. मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया कि बीते सालों में प्रदेश में किए गए कामों की विस्‍तृत जानकारी से संबंधित दस्‍तावेज भी उन्‍होंने प्रधानमंत्री को सौपें हैं. 

यह भी पढ़ें: PM मोदी से मिलने के लिए जहां ठहरी हैं ममता बनर्जी, बगल वाले बंगले में BJP बना रही रणनीति

यह भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल: स्कूल के प्रिंसिपल की मनमानी, मुफ्त की साइकिल बांटने पर वसूल रहे 40-40 रुपए

पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया कि उन्‍होंने राज्‍य के कर्ज को भी माफ करने का अनुरोध प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से किया है. प्रधानमंत्री से इस मुलाकात को लेकर उन्‍होंने कहा कि दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद यह पहली मुलाकात है. मुलाकात के दौरान, हमने प्रधानमंत्री को राज्‍य की विभिन्‍न मांगों से अवगत कराया है. उन्‍होंने कहा कि हमने कोल, बैंकिंग, रियल स्‍टेट और बीएसएनएल के मुद्दे पर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चर्चा की है. उन्‍होंने कहा कि यह मुलाकात राजनैति‍क नहीं, बल्कि एक सरकार की दूसरी सरकार से मुलाकात थी. 

पश्चिम बंगाल का नाम बदलना चाहती है ममता बनर्जी 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी की बैठक के दौरान एक अहम मुद्दा राज्‍य का नाम बदलना भी था. ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल का नाम बदलकर बंगला करवाना चाहती है. जिसको लेकर, उन्‍होंने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से विस्‍तृत चर्चा की है. बैठक के बाद ममता बनर्जी ने मीडिया को बताया कि पश्चिम बंगाल के नाम को बदलने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ न कुछ करने का भरोसा दिया है. 

रक्षामंत्री और गृह मंत्री से ममता ने मांगा मुलाकात का समय 
पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया है कि उन्‍होंने देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और गृह मंत्री अमि‍त शाह से मुलाकात का समय मांगा है. उन्‍होंने कहा कि मैं कल (गुरुवार) रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की कोशिश करुंगी. वहीं गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात को लेकर उन्‍होंने कहा कि हमने गृहमंत्री अमित शाह से भी मुलाकात का समय मांगा है. हालांकि, वे इस समय झारखंड में हैं, यदि संभव हुआ तो वह कल गृहमंत्री अमित शाह से भी मुलाकात करेंगी. 

LIVE TV...

यह भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल: TMC से सत्ता छीनने के लिए बीजेपी ने बनाया खास प्लान, 200 से ज्यादा सीटों पर नजर

एनआरसी पर नहीं हुई प्रधानमंत्री से कोई बातचीत
पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ एनआरसी को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है. उन्‍होंन कहा कि वैसे भी यह मसला असम का है. उनके राज्‍य में अब तक न ही एनआरसी कराने का प्रस्‍ताव है और न ही वह इसके पक्ष में हैं. वहीं शारदा घोटाले के सवाल पर ममता बजर्नी नाराज हो गईं. वह शारदा घोटाले से जुड़े सवालों को नजरअंदाज का वहां से चली गईं.