close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PM मोदी को स्‍वच्‍छ भारत के लिए मिला वैश्विक सम्‍मान, भारतीयों को किया समर्पित

स्‍वच्‍छ भारत अभियान (Swachh Bharat): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को स्‍वच्‍छ भारत अभियान (Swachh Bharat) के लिए 'ग्‍लोबल गोलकीपर अवार्ड' (Global Goalkeeper Award) से सम्‍मानित किया गया.

PM मोदी को स्‍वच्‍छ भारत के लिए मिला वैश्विक सम्‍मान, भारतीयों को किया समर्पित

न्‍यूयॉर्क: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को स्‍वच्‍छ भारत अभियान (Swachh Bharat) के लिए 'ग्‍लोबल गोलकीपर अवार्ड' (Global Goalkeeper Award) से सम्‍मानित किया गया. यह पुरस्‍कार बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की तरफ से दिया गया. संयुक्‍त राष्‍ट्र आमसभा (UNGA) से इतर पीएम मोदी को यह पुरस्‍कार बिल गेट्स ने दिया. पुरस्‍कार ग्रहण करते हुए पीएम मोदी ने इस पुरस्‍कार का श्रेय भारतीयों को दिया. उन्‍होंने कहा कि भारतीयों ने न केव स्‍वच्‍छ भारत के सपने को पूरा किया बल्कि इसको अपनी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्‍सा भी बनाया. उन्‍होंने कहा, ''ये सम्‍मान मेरे लिए नहीं है बल्कि उन करोड़ों भारतीयों के लिए है जिन्‍होंने स्‍वच्‍छ भारत के सपने को न सिर्फ पूरा किया बल्कि इसको अपनी रोजमर्रा जिंदगी का हिस्‍सा बनाया.''

इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि महात्‍मा गांधी के 150वीं जयंती वर्ष के मौके पर ये सम्‍मान मिलना उनके लिए खासा अहमियत रखता है. इसके साथ ही उन्‍होंने जोड़ा कि ये इस बात का भी सबूत है कि यदि 130 करोड़ लोग किसी संकल्‍प को पूरा करने का निश्‍चय कर लें तो उस चुनौती पर विजय पाई जा सकती है.

अमेरिका में पीएम मोदी ने पाकिस्‍तान को आतंकवाद पर दिया कड़ा संदेश, कहा- ठोस कार्रवाई कीजिए

LIVE TV

PM मोदी एलविस प्रेस्ली की तरह, उन्‍हें 'फादर ऑफ इंडिया' कहा जा सकता है: डोनाल्‍ड ट्रंप

पीएम मोदी ने कहा, ''मैं यह सम्‍मान भारतीयों को समर्पित करता हूं जिन्‍होंने स्‍वच्‍छ भारत मिशन को जन आंदोलन में तब्‍दील कर दिया और स्‍वच्‍छता को अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में सर्वोच्‍च प्राथमिकता के रूप में लेना शुरू किया.'' पीएम मोदी ने कहा कि हालिया दौर में किसी मुल्‍क में इस तरह का अभियान नहीं देखा गया. हमारी सरकार ने ये अभियान शुरू किया लेकिन लोगों ने इसकी कमान खुद ही हाथों में ले ली. नतीजतन 1 करोड़ 10 लाख टॉयलेट पिछले पांच साल में बनाए गए. इन सबका नतीजा यह हुआ कि 2014 से पहले ग्रामीण स्‍वच्‍छता कवरेज का औसत जहां 40 फीसद से कम था, वह आज बढ़कर करीब 100 फीसद के करीब पहुंच गया है.