Delhi: किसानों ने बॉर्डर पर बनाने शुरू किए पक्के मकान, Delhi Police ने रोका निर्माण

Farmer's Builds Permanent Houses At Delhi Borders: इस मामले में NHAI और कुंडली नगर पालिका (Kundli Municipality) के अधिकारियों की शिकायत के बाद निर्धारित जगह पर जारी पक्के मकान का निर्माण कार्य फिलहाल रुक गया है. 

Delhi: किसानों ने बॉर्डर पर बनाने शुरू किए पक्के मकान, Delhi Police ने रोका निर्माण
फोटो साभार: (PTI)
Play

नई दिल्ली: राजधानी की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन (Farmer's Protest) जारी है. पहले कटिया डालकर टेंट में रोशनी का इंतजाम कर रहे किसान अब पक्के मकान बनाने लगे हैं. टिकरी बॉर्डर, सिंघु बॉर्डर पर अवैध तरीके से जो मकान निर्माण शुरू किया उस पर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने एक्शन लिया है. स्थानीय पुलिस ने सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर किसानों द्वारा बनाए जा रहे पक्के मकानों का निर्माण कार्य रुकवा दिया है. 

शिकायत पर एक्शन

अवैध निर्माण के मामले में पुलिस को दो एजेंसियों से शिकायत मिली थी. उस पर कार्रवाई करते हुए दिल्ली पुलिस की टीम हरकत में आई. मामले में पुलिस ने दो एफआईआर दर्ज की है. गौरतलब है कि इस मामले में नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) और कुंडली नगर पालिका (Kundli Municipality) के अधिकारियों की शिकायत के बाद निर्धारित जगहों पर जारी निर्माण फिलहाल रुक गया है. 

ये भी पढ़ें- Farmers Protest: गर्मी बढ़ने से किसान परेशान, सड़कों पर ईंट-सीमेंट से बना रहे हैं Permanent Shelter

house at delhi borders

बॉर्डर पर पक्की बसावट!

बॉर्डर पर जिन जगहों पर किसानों ने टैंट लगाए थे, उन्ही जगहों पर अब मकान बनाए जा रहे हैं इसके लिए ईंट से लेकर मिस्त्री तक बाहर से बुलवाए गए हैं. इसकी वजह मौसम को बताया जा रहा है. जिस तरह मौसम अपना मिजाज बदल रहा है उसी तरह किसान भी आंदोलन को तेज करने के लिए नए नए कदम उठा रहे हैं. दरअसल सर्दियों के मौसम में बॉर्डर पर किसानों ने प्लास्टिक के टेंट बनाए थे, लेकिन गर्मियों में इनमें तपिश होने के कारण रुका नहीं जा सकता. इसी सिलसिले में किसानों ने गांव में इस्तेमाल होने वाली घास भी मंगाई गई है, जिसे छप्पर पर डाला जा सके. 

(इनपुट एजेंसी भाषा से)

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.