जयपुर में पानी की किल्लत दूर करने के लिए खुदेंगे 453 ट्यूबवेल

जयपुर शहर में पानी की किल्लत बढ़ती देख जलदाय विभाग ने यह निर्णय लिया है.

जयपुर में पानी की किल्लत दूर करने के लिए खुदेंगे 453 ट्यूबवेल
बीसलपुर बांध में पानी की कमी के कारण यह निर्णय लिया गया है.

आशीष चौहान,जयपुर: बीसलपुर बांध में पानी का आवक कम होने के बाद लगातार जयपुर शहर में पानी की किल्लत बढ़ती जा रही है. जिसके बाद जलदाय विभाग एक के बाद नए ट्यूबवेल प्रोजेक्ट लाकर पानी की किल्लत को दूर करने की कोशिश करने में जुटा हुआ है. कम प्रेशर वाले इलाकों के लिए जलदाय विभाग 453 ट्यूबवेल खादेगा, जिसकी स्वीकृति वित्त विभाग से मिल चुकी है.

जलदाय विभाग के इस प्रोजेक्ट से पानी की किल्लत को दूर होगी, इसके साथ साथ कम प्रेशन की समस्या से भी निजात मिल सकेगी. इससे पहले जलदाय विभाग पुराने ट्यूबवेल के जरिए प्रभावित इलाकों में पानी पहुंचाने का प्रयास कर रहा है. इस प्रोजेक्ट को टंकियों से नहीं जोडा जाएगा, बल्कि सीधा घरों में पाइपलाइन के जरिए ही जोडा जाएगा. ताकि जिन इलाकों में पानी की किल्लत रहती है, वहां इस समस्या से निजात मिल सके. ये सभी 453 ट्यबूवेल जयपुर शहर में खोदे जाएंगे.

इस प्रोजेक्ट के संबंध में जलदाय मंत्री बीडी कल्ला ने बताया, "मुख्यमंत्री से इस फाइल की मंजूरी मिल गई है, गर्मियों को देखते हुए लगातार जलदाय विभाग कोशिशों में जुटा हुआ है कि पानी की किल्लत ना हो. वहीं, आम जनता पानी का दुरूपयोग ना करे."

वहीं, मुख्य अभियंता आईडी खान ने बताया कि वित्त विभाग से फाइल की मंजूरी मिल चुकी है और जल्द ही अब ट्यूबवेल खोदने का काम शुरू किया जाएगा. क्योंकि बीसलपुर बांध में 18 फीसदी से भी कम पानी बचा है. जिससे 15 अगस्त तक ही आपूर्ति हो सकती है. इसलिए गर्मियों से पहले जलदाय विभाग जल्द ही इन ट्यूबवेल्स को खोदने का काम शुरू करेगा.

बहरहाल, जलदाय विभाग अपने स्तर पर पानी की किल्लत को दूर करने की तैयारी में जुटा हुआ है. लेकिन इस पर आम लोगों को भी ध्यान देना होगा. जिससे की हमारा आने वाला भविष्य सुरक्षित रहे.