close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

4 साल पुराने रेप के मामले में दादा को मिली सजा, सलाखों के पीछे काटनी होगी बची हुई जिंदगी

पीड़िता की मां ने विज्ञान नगर थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि पीड़िता के सगे दादा ने मौका पाकर घर मे उसकी 13 वर्षीय नाबालिग बेटी के साथ दुष्कर्म किया था. 

4 साल पुराने रेप के मामले में दादा को मिली सजा, सलाखों के पीछे काटनी होगी बची हुई जिंदगी

कोटा/ मुकेश सोनी : राजस्थान के कोटा में अपनी सगी पोती से दुष्कर्म के 4 साल पुराने मामले में पॉक्सो कोर्ट द्वारा फैसला सुनाते हुए आरोपी दादा को शेष बचे जीवनकाल तक कारावास की सजा सुनाई गई है. सजा के अलावा कोर्ट द्वारा आरोपी पर 70 हजार का जुर्माना भी लगाया गया है. कोर्ट ने इसे जघन्य अपराध मानते हुए कहा है कि यह विश्वासिक संबंधों पर कुठाराघात है. 

विशिष्ट लोक अभियोजक कमलकांत ने बताया कि साल 2015 में पीड़िता की मां ने विज्ञान नगर थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि पीड़िता के सगे दादा ने मौका पाकर घर मे उसकी 13 वर्षीय नाबालिग बेटी के साथ दुष्कर्म किया था. रिपोर्ट में पीड़िता ने जघन्य अपराध की पूरी कहानी बयां की. रिपोर्ट बताया गया है कि आरोपी दादा ने दो सगी बहनों से शादी की थी. जिस कारण दोनों रिश्ते में पीड़िता की सगी दादी लगती हैं. 

रिपोर्ट के मुताबिक मां की गैर मौजूदगी में पीड़िता के दादा ने जबरन उसे बहला फुसलाकर जान से मारने की धमकी देकर कोल्ड ड्रिंक में नशीली दवा डालकर उसकी इच्छा के विरुद्ध दुष्कर्म किया. जिसके साथ आरोपी ने पीड़िता को जान से मारने की धमकी देते हुए कहा कि "यदि मेरी इच्छी की पूर्ति नहीं की तो मैं तुम्हे और तुम्हारे परिवार को घर से बेदखल कर दूंगा."

शिकायत पर विज्ञान नगर थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी और आरोपी को गिरफ्तार कर कोर्ट मे चालान पेश किया था. जिसके बाद से मामला कोर्ट में विचाराधीन था. 16 जनवरी को पोक्सो न्यायालय क्रम संख्या 2 ने मामले में फैसला सुनाते हुए इसे समाज और लोकनीति के विरुद्ध, जघन्य अपराध माना है ओर 70 वर्षीय आरोपी को दादा को शेष जीवनकाल तक कारावास और 70 हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है.