करोड़पति होने के बावजूद राजस्थान के प्रत्याशियों पर करोड़ों का कर्जा

सबसे बड़ी बात यह निकलकर सामने आई है कि जो प्रत्याशी जितना ज्यादा करोड़पति है, उस पर कर्ज भी उतना ही अधिक चढ़ा हुआ है.

करोड़पति होने के बावजूद राजस्थान के प्रत्याशियों पर करोड़ों का कर्जा
राजस्थान के दिग्गज नेताओं ने करोड़ों का कर्जा लिया हुआ है.

जयपुर: राजस्थान की सियासत में करोड़पति नेताओं की कोई कमी नहीं है. सत्ता की सीढ़ियों पर चढ़ते-चढ़ते नेताजी करोड़पति बन गए लेकिन करोड़ों की संपत्ति के बावजूद भी वह कर्ज में डूबे नजर आ रहे है. करोड़ों की जायदाद, मकान, आलिशान कारे, हाथ में मोटा पैसा लेकिन फिर भी करोड़पति नेता भारी कर्ज के बोझ में दबे हुए है. रिर्टनिंग अधिकारियों को दिए गए संपत्तियों के ब्यौरे के अनुसार राजस्थान के दिग्गज नेताओं ने करोड़ों का कर्जा लिया हुआ है. 

 सबसे बड़ी बात यह निकलकर सामने आई है कि जो प्रत्याशी जितना ज्यादा करोड़पति है, उस पर कर्ज भी उतना ही अधिक चढ़ा हुआ है. लेकिन इसमें कई ऐसे प्रत्याशी भी चुनावी मैदान में है जो करोड़पति होने के बावजूद भी किसी भी तरह का कर्ज नहीं ले रखा है. जी मीडिया ने जब नेताओं की संपत्ति खंगाली तो बेहद ही चौकाने वाले आकंड़े सामने आए.

रिटर्निंग अधिकारियों को दिए गए संपत्ति क ब्यौरे में सबसे ज्यादा कर्ज झालवाड़ से मौजूदा सांसद और प्रत्याक्षी दुष्यंत सिंह ने दुष्यंत ने 8 करोड़ से ज्यादा का ऋण बैंकों और दूसरे स्त्रोतों से लिया हुआ है. भीलवाड़ा से रामपाल शर्मा, सीकर से सुभाष महरिया, राजसमंद से देवकीनंदन गुर्जर और जोधपुर से गजेंद्र सिंह शेखावत ने भी करोड़ों का कर्जा लिया हुआ है. जबकि दीया कुमारी 16 करोड़ की मालकिन होने के बावजूद भी एक रूपए का ऋण नहीं लिया हुआ है.

बीजेपी के झालावाड़ से दुष्यंत सिंह के पास 11 करोड़ 53 लाख की संपत्ति है, फिर भी उन्होनें 8 करोड़ 58 लाख का कर्ज लिया हुआ है. बीजेपी के जोधपुर से गजेंद्र सिंह के पास 5 करोड़ 48 लाख की संपत्ति है, लेकिन उन्होने भी 2 करोड़ 48 लाख का उधार लिया हुआ है. करौली से बीजेपी के मनोज राजोरिया की 18 करोड़ की संपत्ति है और वह भी राजोरिया ने 2 करोड़ 19 लाख के उधार में है.  

कांग्रेस की भीलवाड़ा से रामपाल शर्मा की संपत्ति 4 करोड़ 92 लाख है उन्होनें 1 करोड़ 39 लाख का कर्ज लिया हुआ है. राजसमंद से कांग्रेस के देवकीनंदन गुर्जर की संपत्ति 1 करोड़ 93 लाख है, बावजूद इसके वह 1 करोड़ 7 लाख का कर्ज में हैं. सीकर से कांग्रेस के सुभाषा महरिया के पास 3 करोड़ 55 लाख की धन दौलत है, लेकिन उन्होनें भी 1 करोड़ 44 लाख का ऋण लिया हुआ है. इनके अलावा कोटा से कांग्रेस के रामनारायण मीणा ने 85 लाख 23 हजार, अजमेर से बीजेपी के प्रत्याक्षी 65 लाख 91 हजार, जयपुर ग्रामीण से कांग्रेस की कृष्णा पूनिया ने 43 लाख 27 हजार का लोन बैंकों से लिया हुआ है.

इसके अलावा दूसरे कई ऐसे प्रत्याशी भी है जो करोड़पति है, लेकिन इसके बावजूद भी उन्होने कोई ऋण या उधार नहीं लिया हुआ. इसमें सबसे उपर नाम राजसमंद से बीजेपी की प्रत्याक्षी दीया कुमारी का आता है, जिनकी 16 करोड़ की सपंत्ति है और उन्होने किसी भी बैंक से कर्ज या उनका उधार किसी से बाकी नहीं है. झुन्झुनू से कांग्रेस के श्रवण कुमार, जयपुर शहर से कांग्रेस की प्रत्याक्षी ज्योति खंडेलवाल, अलवर से बीजेपी के बालकनाथ, भरतपुर से बीजेपी की रंजीता कुमारी, करौली से कांग्रेस के संजय कुमार, टोंक सवाईमाधोपुर से कांग्रेस के नमोनारायण मीणा, भीलवाड़ा से बीजेपी के सुभाष चंद बहेडिया और जोधपुर से कांग्रेस के प्रत्याक्षी वैभव गहलोत के ने किसी भी तरह का कर्ज बैंक से नहीं लिया हुआ.