राजस्थान में अपेक्स और केन्द्रीय सहकारी बैंक में भर्तियों को लेकर शुरू हुई परीक्षाएं

अपेक्स बैंक और केन्द्रीय सहकारी बैंकों में होने वाली भर्ती परीक्षा में कुल 1 लाख 21 हजार एक सौ 36 अभ्यार्थी भाग लेंगे.

राजस्थान में अपेक्स और केन्द्रीय सहकारी बैंक में भर्तियों को लेकर शुरू हुई परीक्षाएं
यह परीक्षाएं 19 दिसम्बर तक 15 परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षा आयोजित होगी.

जयपुर: राजस्थान सहकारी भर्ती बोर्ड के माध्यम से अपेक्स बैंक और जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक में 715 पदों पर भर्ती के लिए सोमवार से परीक्षाएं शुरू हो गई है. यह परीक्षाएं 19 दिसम्बर तक 15 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित होगी.
   
मंत्री उदयलाल आंजना ने बताया कि अपेक्स बैंक में 6 वरिष्ठ प्रबंधक, 12 प्रबंधक तथा 29 बैंकिंग सहायक के पदों पर तथा जिला केन्द्रीय सहकारी बैंकों में 102 प्रबंधक, 10 कम्प्यूटर प्रोग्रामर, 553 बैंकिंग सहायक, 3 स्टेनोग्राफर के पदों पर भर्ती होगी. यह परीक्षा अजमेर, अलवर, बीकानेर, जयपुर, जोधपुर, कोटा, सीकर, श्रीगंगानगर, उदयपुर, दिल्ली, फरीदाबाद, गाजियाबाद, ग्रेटर नोएडा, गुरूग्राम, नोएडा सहित 15 केन्द्रों पर होगी. अपेक्स बैंक और केन्द्रीय सहकारी बैंकों में होने वाली भर्ती परीक्षा में कुल 1 लाख 21 हजार एक सौ 36 अभ्यार्थी भाग लेंगे.

सहकारिता मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा बजट सत्र के दौरान अपेक्स बैंक और जिला केन्द्रीय सहकारी बैंकों में रिक्त चल रहे पदों पर शीघ्र भर्ती की घोषणा को मूर्तरूप प्रदान करने के लिये सहकारिता विभाग द्वारा यह कदम उठाया गया है. उन्होंने बताया कि भर्ती प्रक्रिया को पूरी तरह ऑनलाइन आयोजित किया जा रहा है ताकि पारदर्शी ढंग से पात्र और उत्कृष्ट आवेदकों का चयन हो सके।

रजिस्ट्रार, सहकारिता डॉ. नीरज के. पवन ने बताया कि प्रबंधक के पद पर 27213, वरिष्ठ प्रबंधक के पद पर 1381, स्टेनो के पद पर 450 छात्रों ने आवेदन किया है. वहीं, कम्प्यूटर प्रोग्रामर के पद पर 1006, बैकिंग सहायक के पद पर 91086 परीक्षार्थियों ने आवेदन किया है. उन्होंने बताया कि मैनेजर के पद पर आज और स्टेनों, कम्प्यूटर प्रोग्रामर सीनियर मैनेजर के पद पर कल, 18 दिसम्बर और 19 दिसम्बर को बैंकिग सहायक के पदों पर परीक्षा आयोजित की जाएगी.

माना जा रहा है कि भर्ती के लिए परीक्षा की प्रक्रिया पूरी होने पर युवाओं को रोजगार की उपलब्धता के साथ-साथ सहकारी बैंकों की कुशलता में वृद्धि होगी. किसानों और आमजन को बेहतर ढंग से बैंकिंग सेवाएं मुहैया कराई जा सकेंगी.