• 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    346बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    92कांग्रेस+

  • अन्य

    104अन्य

दुल्हन अपहरण मामले में आंदोलन के बाद पुलिस ने जाट समुदाय की मांगे मानी

पुलिस द्वारा मांगे पूरी किए जाने के बाद जाट समाज के लोगों ने आंदोलन समाप्त कर दिया. आंदोलन समाप्त करने के बाद शहर के प्रतिष्ठान खुलने शुरू हो गए. 

दुल्हन अपहरण मामले में आंदोलन के बाद पुलिस ने जाट समुदाय की मांगे मानी
पुलिस द्वारा मांगे पूरी किए जाने के बाद जाट समाज के लोगों ने आंदोलन समाप्त कर दिया.

सीकर: राजस्थान के सीकर के नागवा में दुल्हन अपहरण मामले में जांच अधिकारी बदलने को लेकर जाट समाज द्वारा गुरुवार को आंदोलन किया गया. पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग के साथ जाट समुदाय ने सीकर बंद का आह्वान किया गया. जिसके चलते पूरा कस्बा शांतिपूर्ण तरीके से बंद रहा. वहीं मामले की नजाकत को देखते हुए पुलिस द्वारा बुधवार रात से ही इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया था.

आज सुबह से ही जाट समाज के सैकड़ों लोग जाट बाजार में जुट गए. यहां जाट समाज के लोगों ने आयोजित धरने को संबोधित करते हुए जिला प्रशासन पर भेदभाव पूर्ण कार्रवाई करने का आरोप लगाया. जाट समाज के लोगों ने जांच अधिकारी महावीर सिंह राठौड़ को तत्काल प्रभाव से हटाने की मांग की. इसके अलावा इस मामले की पूरी निष्पक्ष जांच की जाने और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की. 

राजपूत समाज द्वारा किए गए आंदोलन के दौरान जाट समाज पर भी कई टिप्पणियां की गई थी. जिसके चलते जाट समुदाय के लोगों ने इस मामले में टिप्पणी करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाने की मांग की है. इस पर आईजीएस सेंगथिर ने कार्रवाई का आश्वासन दिया और जांच अधिकारी महावीर सिंह राठौड़ की स्थान पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक देवेंद्र शर्मा को मामले की जांच की जिम्मेदारी सौंपी. 

पुलिस द्वारा मांगे पूरी किए जाने के बाद जाट समाज के लोगों ने आंदोलन समाप्त कर दिया. आंदोलन समाप्त करने के बाद शहर के प्रतिष्ठान खुलने शुरू हो गए. बंद के चलते आज सीकर शहर में भारी पुलिस बल तैनात किया गया था. जाट समाज के लोगों ने मांग की है कि आश्वासन दिया गया है वह पूरा नहीं किया गया तो आंदोलन फिर से किया जाएगा. फिलहाल आंदोलन समाप्त हो गया है. अपहरण मामले में गिरफ्तार अंकित की मौसी ने आरोप लगाया है कि उसे उसके बेटे से मिलने नहीं दिया जा रहा. वहीं दूसरी ओर आज कोर्ट में दुल्हन हनसा के बयान भी दर्ज करवाए गए.

हालांकि, दुल्हन हनसा के बयान के दौरान जांच अधिकारी महावीर सिंह राठौड़ के वहां मौजूद होने की जानकारी मिलने के बाद जाट समुदाय के लोग एक बार फिर धरने पर बैठ गए. इस पर उन्होंने कहा कि महावीर सिंह राठौड़ इस मामले में बयान दर्ज करवाने में शामिल क्यों हुए. जिसके बाद एक बार फिर मामले ने तूल पकड़ ली है.