Rajasthan: Corona की दूसरी वेव में फिर तेज हुआ 'फीस विवाद', निजी स्कूल कर रहे मनमानी

जयपुर के एक निजी स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थी के अभिभावक सुनील यादव का कहना है कि "सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद 3 मई को उनके बच्चे को स्कूल द्वारा ऑनलाइन कक्षाओं से बाहर कर दिया गया. 

Rajasthan: Corona की दूसरी वेव में फिर तेज हुआ 'फीस विवाद', निजी स्कूल कर रहे मनमानी
फीस को लेकर निजी स्कूल और अभिभावकों में लगातार टकराव की स्थिति देखने को मिल रही है.

Jaipur: पिछले 1 साल 2 महीनों से फीस पर चला आ रहा फसाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. फीस को लेकर निजी स्कूल और अभिभावकों में लगातार टकराव की स्थिति देखने को मिल रही है.

यह भी पढ़ें- Rajasthan में और तेज़ हुआ 'फीस विवाद', अब पैरेंट्स ने शुरू किया Postcard Campaign

कोरोना (Corona) के चलते मार्च 2020 में प्रदेश के शिक्षण संस्थानों को बंद करने का फैसला लिया गया. उसके बाद से ही लगातार अभिभावक फीस में राहत देने की मांग को लेकर अड़े रहे तो वहीं दूसरी ओर निजी स्कूलों द्वारा ऑनलाइन एजुकेशन के बदले पूरी फीस भुगतान को लेकर चारों ओर से दबाव बनाने के मामले भी सामने आए.

यह भी पढ़ें- Rajasthan में फीस को लेकर फसाद जारी, SC के फैसले को दी जाएगी चुनौती

 

फीस मामले में पहले जहां सरकार ने अभिभावकों को राहत देते हुए हस्तक्षेप किया तो वहीं, मामला पहले हाईकोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) पहुंचा. मई के पहले सप्ताह में सुप्रीम कोर्ट ने फीस को लेकर एक विस्तृत आदेश दिया. साथ पूरी फीस भुगतान के सुप्रीम कोर्ट की ओर से आदेश दिए गए. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से एक बार फिर से निजी स्कूलों की मनमानी खुलकर सामने आने लगी है. 

प्रदेश के अधिकतर बड़े स्कूलों ने फीस जमा नहीं करवाने वाले विद्यार्थियों को ऑनलाइन क्लास से बाहर कर दिया है, जिसको लेकर अभिभावकों ने पिछले दिनों जिला शिक्षा अधिकारी को शिकायत भी की थी. जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा इस संबंध में उन तमाम स्कूलों को नोटिस जारी किए गए, जिन्होंने इस भुगतान नहीं होने पर बच्चों को ऑनलाइन क्लास से बाहर कर दिया था.

क्या कहना है अभिभावकों का
जयपुर के एक निजी स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थी के अभिभावक सुनील यादव का कहना है कि "सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद 3 मई को उनके बच्चे को स्कूल द्वारा ऑनलाइन कक्षाओं से बाहर कर दिया गया. साथ ही स्कूल द्वारा मनमानी करते हुए MSG जारी किया गया है कि जब तक फीस का भुगतान नहीं होगा, तब तक ऑनलाइन क्लास में नहीं जोड़ा जाएगा. ऐसे में निजी स्कूलों द्वारा हाईकोर्ट, सुप्रीम कोर्ट और शिक्षा विभाग के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जा रही है."