Jaipur में होगा जैसलमेर-बाड़मेर जैसा नजारा, डेजर्ट पार्क की थीम पर बना Kishanbagh खुलने की तैयारी

जयपुर के अमानीशाह नाला (द्रव्यवती नदी) के स्टार्टिंग पोइंट के पास खाली पड़ी जमीन पर 4 साल में बनकर तैयार हुए किशनबाग पार्क को जल्द ही आमजन के लिए खोला जाएगा. 

Jaipur में होगा जैसलमेर-बाड़मेर जैसा नजारा, डेजर्ट पार्क की थीम पर बना Kishanbagh खुलने की तैयारी
प्रतीकात्मक तस्वीर.

Jaipur: अरावली हिल्स (Aravali Hills) और जैसलमेर-बाड़मेर की वनस्पतियों से सजा डेजर्ट पार्क किशनबाग (Desert Park Kishanbagh) माह के अंत तक आमजन के लिए खुलेगा. इस पार्क की रेगिस्तानी क्षेत्र में उगने वाली वनस्पतियों के बीच बैठकर लगेगा जैसे जैसलमेर-बाड़मेर में आ गए हो. जेडीए ने विद्याधर नगर से नाले की जमीन भूमाफियों से बचाने के लिए पार्क विकसित कर दिया हैं.

जयपुर के अमानीशाह नाला (द्रव्यवती नदी) के स्टार्टिंग पोइंट के पास खाली पड़ी जमीन पर 4 साल में बनकर तैयार हुए किशनबाग पार्क को जल्द ही आमजन के लिए खोला जाएगा. विद्याधर नगर और शास्त्री नगर के पास बने इस पार्क को जैसलमेर के डेजर्ट पार्क की थीम पर तैयार किया गया है. नाहरगढ़ की पहाड़ियों और स्वर्ण जयंती पार्क के पास बना यह डेजर्ट पार्क करीब 64 हैक्टेयर जमीन पर विकसित किया गया है. संभावना है कि इस पार्क को अगले महीने से आमजन के लिए शुरू कर दिया जाएगा. इस पार्क में आने वालों को कुछ एंट्री चार्ज भी देना पड़ेगा, ये कितना होगा अभी तय नहीं हुआ है. अरावली की पहाड़ियों के नीचे विकसित किए इस डेजर्ट पार्क में जैसलमेर, बाड़मेर, जालौर, बीकानेर और जोधपुर क्षेत्र में उगने वाली घास, पेड़-पौधे लगाए गए है. साथ हीं, यहां बने बड़े-बड़े मिट्‌टी के टीले पर इन वनस्पतियों को उगाया गया है ताकि यहां आने वाले पर्यटकों को जैसलमेर में बने डेजर्ट पार्क का जैसा एहसास हो. 

यह भी पढ़ेंः Rajasthan में सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन, निवेशकों की निगाहों में मरूधरा

सरकंडों की टहनियों से बना छप्पर
जेडीसी गौरव गोयल (Gaurav Goyal) ने बताया की इस पार्क में 7 प्रजाति की घास लगाई है, जो राजस्थान के जैसलमेर, जोधपुर, बीकानेर, बाड़मेर, जालौर क्षेत्र में उगती है. इसमें  लापडा, लाम्प, धामण, चिंकी, मकडो, डाब, करड और सेवण है.  इसके अलावा खैर, रोंज, कुमठा, अकोल, धोंक, खेजडी, कैर, गूंदा, लसोडा, गूलर, फालसा, रोहिडा, पीपल, अडूसा, आंवल, खींप आदि प्रजाति के पेड़-पौधो लगाए गए हैं. यह पार्क नाहरगढ़ पहाड़ी की तलहटी क्षेत्र विकसित किया गया है. इस कारण यहां बड़ी संख्या में तीतर, चील, शिकर, खरगोश जैसे जीव भी आते-जाते है. इसे देखते हुए जेडीए ने यहां एक वॉटर बॉडी बनाई है. इस वॉटर बॉडी में पानी पीने के लिए यह पशु-पक्षी जब आएंगे तो यह पर्यटकों के लिए आकर्षण का केन्द्र होगा. यहां आने वाले पर्यटकों के लिए बैठक के लिए सरकंडों की टहनियों से बना छप्पर तैयार किया गया है. साथ हीं, पार्क में 600 मीटर लम्बा पत्थर और लकड़ी का वॉक-वे है. 

राजस्थान में जैसलमेर के डेजर्ट नेशनल पार्क में घूमने का आनंद अलग ही है लेकिन इसी तरह का आनंद अब पिंकसिटी में भी लिया जा सकेगा. डेजर्ट पार्क की थीम पर मूर्तरूप ले चुका किशनबाग डवलपमेंट करने का मकसद टूरिस्ट को आकर्षित करना है. पर्यटक पिंकसिटी में भी रेगिस्तान के दृश्यों के बीच खूबसूरत रेत की पहाड़ियों, वनों और आकर्षक प्राणी प्रजातियों की झलक देख पाए.