केंद्र सरकार से मिल रही Covid-19 मदद में किस नंबर पर है Rajasthan, पढ़ें बड़ा खुलासा

कोटा के सामाजिक कार्यकर्त्ता सुजीत स्वामी (Sujeet Swami) ने गत माह केंद्र के डिपार्टमेंट ऑफ़ हेल्थ एवं फॅमिली वेलफेयर में आरटीआई दायर कर सूचना मांगी थी कि केंद्र द्वारा राज्यों को उपलब्ध करवाई गई.

केंद्र सरकार से मिल रही Covid-19 मदद में किस नंबर पर है Rajasthan, पढ़ें बड़ा खुलासा
राजस्थान को 12 मई तक कुल 2,48,000 रेमडेसिवीर इंजेक्शन अलॉट किये गए.

Kota: कोरोना की लहर ने पूरे देश में हाहाकार मचा रखा है. यहां हालत दिन-ब-दिन बिगड़ते जा रहे हैं. केंद्र सरकार (Central government) ने 12 मई तक 36 राज्य एवं केंद्रीय संस्थानों को कुल 53 लाख 70 हजार रेमडेसिवीर इंजेक्शन एवं 46 हजार 386 वेंटीलेटर अलॉट किये, जिसमें से 38 लाख 5 हजार 121 रेमडेसिवीर इंजेक्शन तथा 43 हजार 979 वेंटीलेटर दिए गए.

यह भी पढे़ं- Satish Poonia के आरोपों पर PCC चीफ Doatsra ने दी तीखी प्रतिक्रिया, बयान हुआ Viral

इसके अलावा 1 करोड़ 76 लाख 91 हजार पीपीई किट और 4 करोड़ 22 लाख 79 हजार N-95 मास्क बांटे हैं. दिए गए वेंटीलेटर में से 38 हजार 958 वेंटीलेटर ही स्टॉल हो पाए जबकि 5021 वेंटीलेटर अभी तक भी स्टॉल नहीं किये गए. अन्य राज्यों में तुलना में वेंटीलेटर एवं पीपीई किट प्राप्त करने में गुजरात जबकि रेमडेसिवीर इंजेक्शन एवं N-95 मास्क प्राप्त करने में महाराष्ट्र अग्रणी रहा.

यह भी पढे़ं- Jaipur: मंदिरों के बंद कपाट के पीछे Akshaya Tritiya की गूंज, सजी जल विहार की झांकी

कोटा के सामाजिक कार्यकर्त्ता सुजीत स्वामी (Sujeet Swami) ने गत माह केंद्र के डिपार्टमेंट ऑफ़ हेल्थ एवं फॅमिली वेलफेयर में आर टी आई दायर कर सूचना मांगी थी कि केंद्र द्वारा राज्यों को उपलब्ध करवाई गई. मेडिकल सहायता जैसे की पीपीई किट, वेंटीलेटर, मास्क आदि की सुचना उपलब्ध करवाए. विभाग के अधिकारी जी. के. पिल्लई ने ने 13 मई को ऑनलाइन पोर्टल के द्वारा उत्तर देते हुए 12 मई तक 36 राज्य एवं केंद्रीय संस्थानों को केंद्र द्वारा दी गयी. मेडिकल सहायता N-95 मास्क, पीपीई किट, रेमडेसिवीर इंजेक्शन (एलोकेशन एवं मैन्युफैक्चरर द्वारा सीधे राज्यों को) की गयी सप्लाई, वेंटीलेटर का एलोकेशन, डिलिवेरी एवं इंस्टालेशन का डाटा दिया. 

जानकारी में हुए ये खुलासे
स्वामी को मिली जानकारी से पता चला है कि केंद्र से वेंटीलेटर प्राप्त करने में नंबर एक पायदान पर गुजरात, दूसरे पर महाराष्ट्र, तीसरे पर यूपी, चौथे पर आंध्र प्रदेश, पांचवें पर केंद्रीय संस्थान और छठे पायदान पर राजस्थान है. वहीं रेमडेसिवीर इंजेक्शन (Remdesivir Injection) की बात करें तो पहले पायदान पर महाराष्ट्र, दूसरे पर उत्तर प्रदेश, तीसरे पर गुजरात, चौथे पर कर्नाटक, पांचवें पर मध्य-प्रदेश, छठे पर तेलंगाना, सातवें पर आंध्र प्रदेश, आठवें पर तमिनाडु, नौवें पर दिल्ली और दसवें नंबर पर राजस्थान है. 

पीपीई किट में कुछ ऐसा है पायदान का दायरा
पीपीई किट में भी पहले पायदान पर केंद्रीय संस्थान, दूसरे पर गुजरात, तीसरे पर महाराष्ट्र, चौथे पर उत्तर प्रदेश, पांचवें पर दिल्ली और छठे पर राजस्थान है. और अंत मे N-95 मास्क का विवरण देखा जाए तो, केंद्र की ओर से दिए जाने वाले मास्क मे पहले पायदान पर केंद्रीय संस्थान, दूसरे पर महाराष्ट्र, तीसरे पर गुजरात, चौथे पर उत्तर प्रदेश, पांचवें पर दिल्ली, छठे पर तमिलनाडु एवं सातवें पायदान पर राजस्थान रहा.   

रेमडेसिवीर इंजेक्शन की है यह जानकारी
राजस्थान को 12 मई तक कुल 2,48,000 रेमडेसिवीर इंजेक्शन अलॉट किये गए, जिसका 63% यानि की 157419 इंजेक्शन ही प्रदेश को प्राप्त हुए. महाराष्ट्र को 1157000, उत्तर प्रदेश को 495000, गुजरात को 419000, कर्नाटक को 575000, मध्य-प्रदेश को 260000 अलॉट किये गए, जिसमें से प्रत्येक को क्रमश: 799618 (69%), 363332 (73%) 354830 (85%), 326028 (56%) और 214916 (83%) इंजेक्शन प्राप्त हुए. 

वेंटिलेटर की कुछ ऐसी है स्थिति
वहीं, राजस्थान को 12 मई तक कुल 1900 वेंटिलेटर अलॉट किये गए, जिसमें से पूरे 1900 की ही डिलीवरी भी दे दी गयी लेकिन राज्य में अब तक 1871 वेंटीलेटर ही स्टॉल हो पाए बाकि के 29 वेंटीलेटर को अभी तक स्टालेशन का इंतजार है. गुजरात को 5600, महाराष्ट्र को 5555 एवं उत्तर प्रदेश को 5316 वेंटीलेटर अलॉट किये गए, जिसमें से क्रमश: 5600, 5366 & 5116 वेंटीलेटर ही इन राज्यों को डिलीवर हो पाए और उनमें से भी 4906, 5144 & 3991 वेंटीलेटर राज्यों ने स्टॉल किये गए.

मास्क और पीपीई किट का वितरण
12 मई तक 18.65 लाख N95 मास्क राजस्थान को दिए गए जबकि केंद्रीय संस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात एवं उत्तर प्रदेश को क्रमश: 59.79 लाख, 32.01 लाख, 28.42 लाख और 23.56 लाख N95 मास्क दिए गए. 

पीपीई किट की बात करें तो राजस्थान को 9.13 लाख दिए गए जबकि केंद्रीय संस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र एवं उत्तर प्रदेश को क्रमश: 26.41 लाख, 16.08 लाख, 14.83 लाख और 14.72 लाख पीपीई किट दिए गए.

क्या कहना है सामाजिक कार्यकर्ता सुजीत स्वामी का
सामाजिक कार्यकर्ता सुजीत स्वामी (Sujit Swami) का कहना है कि केंद्र के द्वारा राज्यों को किस आधार पर यह मेडिकल सुविधा दी गयी है, स्पष्ट करना चाहिए क्योंकि संक्रमण की दर, पॉपुलेशन, एरिया आदि यदि किसी के भी हिसाब से देखे तो राज्यों को दी गई मदद का अनुपात फिट नहीं बैठता. सबसे ज्यादा संक्रमित प्रदेश की सूचि मे महाराष्ट्र है लेकिन वेंटीलेटर ज्यादा गुजरात को दिए गए, रेमडेसिवीर इंजेक्शन देने का प्रतिशत भी गुजरात का ज्यादा रहा इसके. 
इसके अलावा राजस्थान को भी रेमडेसिवीर इजेक्शन की सप्लाई आवश्यकता के अनुरूप नहीं की गयी. केंद्र को इसमें पारदर्शिता लानी चाहिए और राज्यों के द्वारा की गयी और उसके सन्दर्भ मे की गयी सप्लाई का डाटा जनता के सामने रखना चाहिए.