किसानों के साथ गहलोत सरकार ने मनाई पहली सालगिरह, CM बोले- पहली प्राथमिकता हैं अन्नदाता

गहलोत ने इस मौके पर गांवों के लिए मास्टर प्लान की बात की, तो साथ ही किसानों को ब्याज मुक्त ऋण, बीमा का भुगतान और सब्सिडी जैसे मामलों में राहत देने के लिए कृषक राहत कोष का शुभारंभ भी पहली सालगिरह के मौके पर किया.

किसानों के साथ गहलोत सरकार ने मनाई पहली सालगिरह, CM बोले- पहली प्राथमिकता हैं अन्नदाता
अशोक गहलोत ने कहा कि उनकी सरकार हमेशा किसानों और जनकल्याण को समर्पित रही है.

जयपुर: सरकार की पहली सालगिरह के मौके पर राजधानी के विद्याधर नगर स्टेडियम पर बड़ा किसान सम्मेलन आयोजित किया गया. सरकार ने किसानों के बीच अपनी सालगिरह मनाई तो आगे भी किसानों की सहूलियत के लिए हर संभव कोशिश करने की बात मंच से दोहराई. 

खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि उनकी सरकार हमेशा किसानों और जनकल्याण को समर्पित रही है. गहलोत ने इस मौके पर गांवों के लिए मास्टर प्लान की बात की, तो साथ ही किसानों को ब्याज मुक्त ऋण, बीमा का भुगतान और सब्सिडी जैसे मामलों में राहत देने के लिए कृषक राहत कोष का शुभारंभ भी पहली सालगिरह के मौके पर किया.

सरकार ने अपनी पहली सालगिरह का कार्यक्रम प्रदेश के किसानों के बीच मनाया. राजधानी में हुए किसान सम्मेलन में प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों से पहुंचे किसानों के बीच सरकार ने कृषि विभाग में खेती की तकनीक में आ रहे बदलाव और नवाचार दिखाने के लिए बड़ी प्रदर्शनी लगाई, तो सरकार की योजनाओं की जानकारी देने के लिए इस किसान मेले में अलग-अलग विभागों की स्टॉल्स भी लगाई गई. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कृषि प्रदर्शनी का उद्घाटन किया. 

इसके बाद मुख्यमंत्री ने किसानों को तकनीक से रूबरू होने और उसे अपनाने की अपील भी मंच से ही की. गहलोत ने कहा कि किसान अपने खेत में फूड प्रोसेसिंग यूनिट लगा सकते हैं और इसके लिए जमीन की किस्म बदलवाने की भी जरूरत नहीं होगी. उन्होंने किसानों के लिए अपने मौजूदा कार्यकाल में बिजली की दरें नहीं बढ़ाने के वादे को दोहराया तो साथ ही किसानों से ड्रिप इरिगेशन को ज्यादा से ज्यादा अपनाने की अपील भी की. 

किसान मेले के दौरान मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने कहा कि सरकार की यह कोशिश किसानों को आगे समृद्ध बनाने की दिशा में बड़ा कदम साबित होगी. मुख्य सचिव ने कहा कि सरकार किसानों के प्रति हमेशा संवेदनशील रही है और उन्हें खेती की नई नई तकनीक भी बताने में सरकार का रुझान रहा है, जिससे किसान भी समृद्ध हो सके.

जानिए क्या बोले कृषि मंत्री लालचंद कटारिया 
किसान सम्मेलन में मंच से संबोधित करते हुए कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने अपने विभाग की उपलब्धियां गिनाई तो साथ ही किसानों से रासायनिक खेती की बजाय जैविक खेती अपनाने का आह्वान भी किया हालांकि इस दौरान कटारिया ने किसानों को भरोसा दिलाते हुए यह भी कहा कि सरकार यूरिया की सप्लाई में किसानों के लिए कोई परेशानी नहीं आने देगी. उन्होंने सरकार की तरफ से गांव में खोले गए पशु चिकित्सा केंद्र और मुफ्त पशु चिकित्सा योजना का दायरा बढ़ाने की बात भी कही.

क्या बोले सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना 
किसानों की कर्ज माफी का ज़िक्र करते हुए सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने कहा कि मुख्यमंत्री ने शपथ लेने के 48 घंटे के भीतर किसानों का कर्जा माफ किया था. इसके साथ ही कर्ज वितरण के लक्ष्य पर आंजना ने कहा कि 10 लाख किसानों को इसमें शामिल करने के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में विभाग लगातार बढ़ रहा है और अभी तक 7 लाख किसानों को इसमें जोड़ा जा चुका है. उदयलाल आंजना ने किसानों के बीच सहकारी संस्थाओं के चुनाव भी जल्द कराने की बात कही. उन्होंने कहा कि पिछली सरकार का लोकतंत्र में भरोसा नहीं था इसीलिए उन्होंने सहकारी संस्थाओं के चुनाव में देरी की.

किसानों के बीच अपनी पहली सालगिरह मना कर सरकार ने साफ कर दिया है कि किसान उसकी प्राथमिकता में सबसे आगे हैं. किसानों के लिए हर सम्भव काम करने की बात कहकर सरकार ने किसानों को भरोसा भी दियाने की कोशिश की है कि आने वाले समय में में किसानों के लिए और नये काम और योजनाएं भी शुरू होंगे.