जोधपुर: सिलिकोसिस पीड़ितों को लेकर मजदूर संघ ने की गहलोत सरकार से यह मांग

राज्य सरकार द्वारा 1 वर्ष पूरे होने पर सिलिकोसिस बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए जहां 1500 रु पेंशन पुनर्स्थापित के लिए तीन लाख रुपए और मृतक आश्रितों के लिए दो लाख की राशि देने का निर्णय लिया है.

जोधपुर: सिलिकोसिस पीड़ितों को लेकर मजदूर संघ ने की गहलोत सरकार से यह मांग
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

अरुण हर्ष/जोधपुर: राज्य सरकार द्वारा 1 वर्ष पूरे होने पर सिलिकोसिस बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए जहां 1500 रु पेंशन पुनर्स्थापित के लिए तीन लाख रुपए और मृतक आश्रितों के लिए दो लाख की राशि देने का निर्णय लिया है, लेकिन राजस्थान राज्य खान मजदूर यूनियन सरकार की इस निर्णय से संतुष्ट नजर नहीं आ रहे.

दरअसल, प्रदेश सरकार सिलिकोसिस बीमारी को लेकर हमेशा से चिंतित रहती है. अपने पूर्व के कार्यकाल के दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सिलिकोसिस मरीजों के लिए राहत देने की योजनाएं शुरू की थी. इस साल भी अपनी सरकार के 1 साल पूरा होने पर उन्होंने सिलिकोसिस पीड़ितों के लिए राहत देने का कहा है, लेकिन राजस्थान राज्य खान मजदूर संघ मुख्यमंत्री की इस बात से इत्तेफाक नहीं रख रहा है.

राजस्थान राज्य खान मजदूर संघ की मानें तो सरकार जो सहायता उपलब्ध करवा रही है वह कम है. उनका कहना है कि सरकार सिलिकोसिस मरीजों के लिए पेंशन राशि जो 1500 रुपए की है उसकी जगह 4 हजार पेंशन की जाए. पुनर्स्थापित राशि की जगह जगह सिलिकोसिस पीड़ित के परिवार में से किसी एक सदस्य को नौकरी दी जाए.

राजस्थान राज्य खान मजदूर संघ के प्रदेश महामंत्री बंसी लाल बिंजना ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में वादा किया था. अब वह लोग उनसे उम्मीद कर रहे हैं कि आने वाले दिनों में सरकार सिलिकोसिस पीड़ितों के बारे में और ज्यादा गंभीरता से सोचेगी और राहत देगी.

वहीं, संगठन से जुड़ी महिला राजू देवी ने भी सरकार से मांग की है कि सरकार सिलिकोसिस पीड़ित परिवारों के साथ साथ विधवाओं के बारे में भी कुछ ऐसी व्यवस्था करें, जिससे विधवाओं का भरण पोषण हो सके और पेंशन राशि भी बढ़ाई जाए. साइन ऑफ अब देखना है कि प्रदेश के मुखिया राजस्थान राज्य खान मजदूर यूनियन की मांगों पर कितने गंभीर होते हैं और उन्हें राहत प्रदान करते हैं.