close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाड़मेर के लोगों को जल्द मिलेगा नर्मदा का पानी, 205 गांवों की बुझेगी प्यास

नर्मदा नहर आधारित पेयजल परियोजना में तेरह साल के लंबे इंतजार के बाद अब 205 गांवों को मीठा पानी मिलेगा. नर्मदा नहर से जुड़े गुड़ामालानी के बाद अब चौहटन और रामसर-शिव प्रोजेक्ट का काम जल्द ही पूरा होगा. 

बाड़मेर के लोगों को जल्द मिलेगा नर्मदा का पानी, 205 गांवों की बुझेगी प्यास
प्रतीकात्मक तस्वीर

बाड़मेर: राजस्थान के बाड़मेर के गुड़ामालानी की जनता को शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाने की योजना के लिए ऐतिहासिक पल नर्मदा के नीर के साथ पूरा हुआ. लोगो ने मंगलगीतों के साथ नर्मदा के नीर का स्वागत किया. एक तरफ जहां लोगों में नर्मदा के नीर के स्वागत को लेकर जबरदस्त उत्साह देखने को मिला, वहीं दूसरी तरफ प्रोजेक्ट के इस चरण के पूरा होने पर विभाग के कार्मिकों और अधिकारियों में भी खुशी नजर आई. जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग द्वारा गुड़ामालानी में ट्रीटमेंट प्लांट लगाकर ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाने की कटिबद्धता को दोहराया गया है. 

नर्मदा नहर आधारित पेयजल परियोजना में तेरह साल के लंबे इंतजार के बाद अब 205 गांवों को मीठा पानी मिलेगा. नर्मदा नहर से जुड़े गुड़ामालानी के बाद अब चौहटन और रामसर-शिव प्रोजेक्ट का काम जल्द ही पूरा होगा. बाड़मेर जिले के 177 गांवों को नर्मदा नहर से एच बिन्दु से पेयजल परियोजना की रूपये 160 करोड़ की स्वीकृति के बाद आधारभूत ढांचे के कार्यों को पूरा किया गया. इसके अन्तर्गत डाली जाने वाली मुख्य पाईप लाईन से गांवों तक टंकियों के निर्माण एवं पाईप लाईन बिछाने की कलस्टर योजना के लिए भी सर्वे कार्य किया गया. नर्मदा के नीर के आने के बाद लोगों को पानी की समस्या से निजात मिला है.

नर्मदा गुड़ामालानी परियोजना के तहत नर्मदा नहर से पानी को पम्प कर ग्राम ढीमड़ी लाया गया. जहां पर 78 करोड़ लीटर की विशाल डिग्गी में भण्डारण कर वहीं पर 420 लाख लीटर प्रतिदिन क्षमता के फिल्टर प्लांट से शुद्ध कर गुड़ामालानी होते हुए कोषलू एवं कादानाड़ी तक कुल 115 किमी लम्बी पाईप लाईन एवं मध्य में आड़ेल एवं भेडाणा पर पंपिंग के माध्यम से पहुंचाया गया. मुख्यमंत्री द्वारा बजट घोषणा के अनुसार आरम्भ करवाने से इस समूचे क्षेत्र की वर्षो पुरानी खारे भू जल की समस्या का स्थाई समाधान हो जाएगा.