close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झुंझुनूं: सर्पदंश के बाद बरतनी चाहिए ये सावधानियां, वरना जा सकती है जान

झुझुनूं शहर के डॉक्टर आरके सुमन का कहना है कि सांप के काटने के आम तौर पर ग्रामीण इलाकों में लोग झाड़ फूंक के चक्कर में पड़ जाते हैं. 

झुंझुनूं: सर्पदंश के बाद बरतनी चाहिए ये सावधानियां, वरना जा सकती है जान
शेखावटी में इस मौसम में अस्पतालों में सर्पदंश के मरीजों की संख्या काफी बढ़ी है.

झुंझुनूं/संदीप केडिया: राजस्थान के झुंझुनूं जिले में हर साल सैंकड़ों लोग सर्प दंश का शिकार होते हैं. लेकिन सर्पदंश का शिकार हुए लोगों को सही समय पर इलाज नहीं कराने के कारण जान गंवानी पड़ती है. 

झुझुनूं शहर के डॉक्टर आरके सुमन का कहना है कि सांप के काटने के बाद चीरा लगाना मरीज के लिए जानलेवा हो सकता है. उनका कहना है कि आम तौर पर ग्रामीण इलाकों में लोग झाड़ फूंक के चक्कर में पड़ जाते हैं. जबकि सांप काटने की जानकारी मिलने के तत्काल बाद मरीज को सीधे अस्पताल पहुंचाना चाहिए.

इन महीनों में सर्पदंश की ज्यादा घटनाए 
उन्होंने बताया कि पहाड़ी इलाकों में मुख्यतः कोबरा यानि काला सांप और अन्य इलाकों में बांडी यानि भूरा सांप के काटने के ज्यादा केस आते हैं. हर साल जुलाई और अगस्त माह में ऐसे केस ज्यादा आते हैं.

शेखावटी क्षेत्र में बढ़ी मरीजों की संख्या
उन्होंने बताया कि जानकारी मिलने के बाद मरीज को सांप के काटने वाली जगह से थोड़ा ऊपर बांध कर काफी ज्यादा पानी पिलाना चाहिए. लेकिन इस दौरान पीड़ित को ब्लेड आदि से चीरा लगाने से बचना चाहिए. प्रदेश के शेखावटी इलाके में बारिश के मौसम में अस्पतालों में सर्पदंश के मरीजों की संख्या काफी बढ़ी है.