झुंझुनूं: जिस स्कूल में हुआ था बच्चों के साथ कुकर्म वहां के स्टाफ ने की आत्महत्या, उलझा मामला

झुंझुनूं के दोरासर में संचालित सैनिक स्कूल लगातार विवादों में आ रही है. वहीं रक्षा मंत्रालय द्वारा अब तक कोई कार्रवाई ना करना भी बड़ा सवाल पैदा कर रहा है.   

झुंझुनूं: जिस स्कूल में हुआ था बच्चों के साथ कुकर्म वहां के स्टाफ ने की आत्महत्या, उलझा मामला
लेखा लिपिक 51 वर्षीय कमलसिंह ने फांसी लगाकर जान दे दी

झुंझुनूं: जिले के दोरासर में संचालित सैनिक स्कूल लगातार विवादों में आ रही है. वहीं रक्षा मंत्रालय द्वारा अब तक कोई कार्रवाई ना करना भी बड़ा सवाल पैदा कर रहा है. 12 बच्चों के साथ कुकर्म के बाद अब स्कूल के लेखा लिपिक 51 वर्षीय कमलसिंह ने फांसी लगाकर जान दे दी है. यह लेखा लिपिक हांसलसर का रहने वाला था और सूबेदार मेजर के पद से सेना से रिटायर होने के बाद बतौर लेखा लिपिक सैनिक स्कूल में कार्यरत था.

सूत्रों की मानें तो लेखा लिपिक के कमरे से तीन पेज का सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उसने स्कूल के प्रिंसीपल और एक उसके सहायक के खिलाफ दबाव बनाने का आरोप लगाया है. जिसके कारण उसने आत्महत्या किया जाना बताया है.

हालांकि पुलिस सुसाइड नोट की पुष्टि कर रही है. परंतु सुसाइड नोट में क्या लिखा है... इसके बारे में खुलासा नहीं कर रही, लेकिन बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल के दौरे के कुछ घंटे बाद ही लेखा लिपिक ने स्कूल कैंपस में बने अपने आवास में फांसी लगाकर जान दी है. 

बताया जा रहा है कि सुसाइड नोट में यह भी लिखा था कि वह अपनी बातें मीडिया के साथ भी साझा करना चाह रहा था परंतु प्रिंसीपल और उसके एक सहायक कर्मचारी ने उस पर दबाव बना रखा था. यदि मामला 12 बच्चों के साथ कुकर्म से जुड़ा हुआ है तो वास्तव में स्कूल में बड़े खेल से इंकार नहीं किया जा सकता.  वहीं स्कूल की साख पर भी सवाल उठना लाजमी है.

आपको बता दें कि इस सैनिक स्कूल में एक दर्जन से अधिक छात्रों के साथ टीचर द्वारा कुकर्म की खबर सामने आई थी. जानकारी के मुताबिक, स्कूल प्रबंधन की ओर से आठ दिसंबर को सदर थाने में टीचर के खिलाफ शिकायत दी गई थी कि आठ बच्चों के साथ टीचर ने कुकर्म किया है. इसके बाद पुलिस ने पोक्सो एक्ट में मामला दर्ज करते हुए आरोपी टीचर को गिरफ्तार कर लिया था. 

Related News : झुंझुनूं: सरकारी स्कूल में एक दर्जन से अधिक बच्चों के साथ कुकर्म, आरोपी शिक्षक गिरफ्तार