close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान के सीमावर्ती इलाको में पाकिस्तानी टिड्डियों का आतंक, प्रशासन चौकस

पाकिस्तान में टिड्डी के बेकाबू होने के बाद वहां हवाई जहाज से इसके रोकथाम के लिए दवाइयां छिड़की जा रही है.

राजस्थान के सीमावर्ती इलाको में पाकिस्तानी टिड्डियों का आतंक, प्रशासन चौकस
रोकथाम के लिए कंट्रोल रूम बनाया गया है. (प्रतीकात्मक फोटो)

बाड़मेर: पाकिस्तान में टिड्डी के बेकाबू होने के बाद वहां हवाई जहाज से इसके रोकथाम के लिए दवाइयां छिड़की जा रही है. पाकिस्तान से सटे राजस्थान के सीमावर्ती इलाकों में टिड्डियों के कारण परेशानी बढ़ सकती है. खबर के अनुसार, गुरुवार को बाड़मेर से कुछ दूर पर स्थित पाकिस्तान के मीरपुर जिले के एयरपोर्ट पर जहाज तैनात किया गया है.

पाकिस्तान के अधिकारियों ने बुधवार को हुई बैठक के दौरान भारत को आश्वासन दिया कि उन्होंने दस हजार हेक्टेयर में टिड्डी के खिलाफ कंट्रोल कार्यक्रम चला रखा है. इसके लिए पाकिस्तानी पीएम इमरान खान काफी गंभीर है. 3 दिन पहले ही पाकिस्तान के केंद्रीय खाद्य सुरक्षा मंत्री को मीरपुर भेजा गया है. 

वहीं मानसून की पूर्व बारिश और साथ में तेज आंधी की संभावना के कारण भारत भी चिंतित है. माना जा रहा है कि हवा की दिशा और दशा अनुकूल मिलने पर टिड्डी फिर से राजस्थान की तरफ आ सकते हैं. जिससे निपटने के लिए भारत ने तैयारी कर रखी है.

संभवत यह पहला मौका था जो बैठक इतनी लंबी चली है. इस बैठक में भारत के वैज्ञानिकों के साथ ही तकनीक की जुड़े लोगों ने भाग लिया.  बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की टिड्डी सिंध प्रांत के थारपारकर से जिला थार मरुस्थल क्षेत्र में पहुंच चुकी है. 1993 के बाद यह सबसे बड़ा संकट माना जा रहा है. 

बाड़मेर जिला मुख्यालय पर टीड्डी विभाग की ओर से कंट्रोल रूम बनाया गया है. इस कंट्रोल रूम के जरिए प्रतिदिन फील्ड में रहने वाले ग्रामसेवक, पटवारी, नायब तहसीलदार, तहसीलदार बीएसएफ से लगातार संपर्क में हैं. किसी भी हालात से निपटने की तैयारी शुरू कर दी है. इसके लिए बकायदा मशीनरी के साथ अन्य सामग्री भी बाड़मेर जिला मुख्यालय पर रखी गई है.