एक बार फिर MGNREGA श्रमिकों की दीवाली रहेंगी फीकी, 1 अरब 90 करोड़ रुपये का भुगतान बाकी
X

एक बार फिर MGNREGA श्रमिकों की दीवाली रहेंगी फीकी, 1 अरब 90 करोड़ रुपये का भुगतान बाकी

मनरेगा योजना (MGNREGA Scheme) के माध्यम से हजारों लोगो को रोजगार मिला, जिससे आजीविका पटरी पर आ सकी, लेकिन इस बार दिवाली पर मनरेगा श्रमिकों के भुगतान का अड़ंगा लग गया है.

एक बार फिर MGNREGA श्रमिकों की दीवाली रहेंगी फीकी, 1 अरब 90 करोड़ रुपये का भुगतान बाकी

Dungarpur: प्रदेश के आदिवासी अंचल डूंगरपुर (Dungarpur News) जिले में रोजगार के लिए लाइफ लाइन कहीं जाने वाली महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना (Mahatma Gandhi National Employment Guarantee Scheme) में कार्यरत श्रमिको के दिवाली (Diwali 2021) इस बार फीकी रहेगी. दिवाली के 5 दिन बचे है और 64 हजारों श्रमिकों के भुगतान का 106 करोड़ रुपये बकाया है. वहीं, मटेरियल मद में भी 81.74 करोड़ रुपये का भुगतान बकाया है. दोनों का करीब 1 अरब 90 करोड़ रुपये का भुगतान बजट के अभाव में अटका है. 

यह भी पढ़ेंः Pratapgarh में शत-प्रतिशत टीकाकरण, प्रदेश में पहला स्थान हासिल करने का मिला गौरव

कोरोना (Corona) काल में लोगों के काम धंधे छूट गए, नौकरिया बंद हो गई. उस समय मनरेगा योजना ही सबसे कारगर साबित हुई. मनरेगा योजना (MGNREGA Scheme) के माध्यम से हजारों लोगो को रोजगार मिला, जिससे आजीविका पटरी पर आ सकी, लेकिन इस बार दिवाली पर मनरेगा श्रमिकों के भुगतान का अड़ंगा लग गया है. इसकी वजह बजट है. डूंगरपुर जिले में मनरेगा योजना के तहत अगस्त महीने के पहले पखवाड़े से बजट नहीं मिला हैं. ऐसे में श्रम मद और मटेरियल मद दोनों में ही भुगतान नहीं हुआ है.

वहीं, ऐसे में दिवाली से पहले मजदूरों और  मटेरियल का भुगतान नहीं हुआ तो श्रमिकों के सामने दीवाली का त्यौहार फीका हो जाएगा और आर्थिक समस्याओं से गुजरना पड़ेगा. पिछले ढाई महीनों से भुगतान नहीं मिलने से मजदूर जैसे-तैसे अपना परिवार चला रहे है और दिवाली पर भी बजट नहीं मिलने पर कई समस्याओं का सामना करना पड़ेगा. इधर सरपंच संघ सहित अन्य जनप्रतिनिधियों श्रमिकों को दिवाली से पहले भुगतान की मांग की है. 

इधर, इस बारे में जिला परिषद की सीईओ अंजली राजोरिया (CEO Anjali Rajoria) से बात की गई तो उन्होंने बताया की जिले में पिछले 5 पखवाड़ो का श्रम मद का भुगतान बकाया चल रहा है . उन्होंने बताया कि श्रम मद में 1 अरब 6 करोड़ 24 लाख रुपये का भुगतान बकाया है, जबकि मटेरियल मद में 81 करोड़ 74 लाख रुपये का बजट बकाया है. उन्होंने बताया की इस सम्बन्ध में राज्य सरकार (Rajasthan Government) को अवगत करवाया गया है उन्होंने दिवाली से पहले भुगतान के होने की उम्मीद जताई है. 

यह भी पढ़ेंः बाल विवाह की शिकार नाबालिग हुई गर्भवती, मां-बाप बालिका की कस्टडी के लिए खा रहे धक्के

मिली जानकारी के अनुसार, पखवाड़े पूरे होने के बाद सम्बंधित पंचायत और पंचायत समिति से मस्टरोल के एफटीओ हो चुके है. मनरेगा मजदूरी की यह राशि केंद्र सरकार (Central Government) की तरफ से राज्य सरकार को दी जाती है लेकिन अभी तक यह राशि केंद्र से राज्य सरकार को नहीं मिल पाई है. इसके चलते मनरेगा का बजट नहीं होने से एफटीओ लंबित चल रहे है

बहराल डूंगरपुर जिला परिषद सीईओ दिवाली से पहले श्रम मद का भुगतान होने का आश्वासन दे रही है. अब देखने वाली बात होगी की दिवाली से पहले मनरेगा श्रमिकों को यह भुगतान हो पाता है या मनरेगा श्रमिकों की दीवाली इस बार फीकी ही रहेगी. 

Reporter- Akhilesh Sharma

Trending news