बीकानेर में भी सर्दी का टॉर्चर, विजिबिलिटी ने थामी शहर की रफ्तार

राजस्थान के रेगिस्तान यानी बीकानेर में भी घने कोहरे ने जीवन की रफ़्तार पर ब्रेक लगा दिया है. ऐसे में कोहरे की चादर में रेगिस्तान पूरी तरह से समा गया है. वहीं हाईवे पर विज़िबिलिटी 5 मीटर तक जा पहुंची है, जिससे जीवन की रफ़्तार पर ब्रेक लग गया है.

बीकानेर में भी सर्दी का टॉर्चर, विजिबिलिटी ने थामी शहर की रफ्तार
कोहरे की चादर में रेगिस्तान पूरी तरह से समा गया है.

रौनक व्यास, बीकानेर: रेगिस्तान में सर्दी अपने पूरे शबाब पर है. ऐसे में सर्दी का टॉर्चर पूरी तरह से रेगिस्तान के लोगों पर देखा जा सकता है. पहाड़ों में हुई बर्फ़बारी का असर अब मैदानी ओर रेगिस्तान के इलाक़ों मे साफ़तौर पर देखा जा सकता है. 

राजस्थान के रेगिस्तान यानी बीकानेर में भी घने कोहरे ने जीवन की रफ़्तार पर ब्रेक लगा दिया है. ऐसे में कोहरे की चादर में रेगिस्तान पूरी तरह से समा गया है. वहीं हाईवे पर विज़िबिलिटी 5 मीटर तक जा पहुंची है, जिससे जीवन की रफ़्तार पर ब्रेक लग गया है.

कड़ाकेदार सर्दी का सितम ऐसा कि मानों जीवन की रफ़्तार पर ब्रेक लग गया हो. चारों ओर घना कोहरा और उसपर सड़क पर रेंगती गाड़ियों को देख कर आप ये अंदाज़ा लगा सकते हैं कि ठंड किस क़दर अपना थर्ड डिग्री वाला टॉर्चर देखने को मिल रहा है. ठंड पूरे देश में अपने चरम पर है. ऐसे में रेगिस्तानी इलाके बीकानेर में भी आज सुबह से घने कोहरे ने पूरे शहर को अपनी आगोश में ले लिया. आज सुबह मानों पूरी तरह कोहरे के नाम हो. 

गर्म कपड़ों के साथ लोग खुद को सर्दी से बचाने की कोशिस कर रहे हैं, वहीं सर्दी से बचने के लिए लोग अलाव का सहारा ले रहे हैं. विजिबिलिटी कम होने की वजह से सबसे ज्यादा परेशानी रोड पर चलने वाले वाहन चालको को हो रही है क्योंकि ऐसे घने कोहरे में गाड़ियों की गति एक दम थम सी गई हैं. 

पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाकों तक या हो रेगिस्तान, सभी जगह सर्दी पूरी तरह अपने तेजी पर है. ऐसे में मौसम विभाग की मानें तो दिसंबर का महीना ऐसे ही सर्द भरा रहने वाला है.