महागठबंधन ने बनाई चुनाव प्रचार रणनीति, अखिलेश-माया-अजित करेंगे 12 संयुक्त रैलियां

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए एसपी, बीएसपी और आरएलडी ने साझा चुनाव प्रचार की रणनीति बनाई है. अखिलेश-मायावती और चौधरी अजित सिंह मिलकर यूपी में कुल 12 रैलियां करेंगे. 

महागठबंधन ने बनाई चुनाव प्रचार रणनीति, अखिलेश-माया-अजित करेंगे 12 संयुक्त रैलियां

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में महागठबंधन सहयोगी एसपी, बीएसपी और आरएलडी ने साझा चुनाव प्रचार की रणनीति बनाई है. तीनों दलों ने मिलकर साझा चुनाव प्रचार के कार्यक्रम की रूपरेखा भी तैयार कर ली है. 

अखिलेश-मायावती और चौधरी अजित सिंह मिलकर यूपी में कुल 12 रैलियां करेंगे. एसपी, बीएसपी और आरएलडी की 7 अप्रैल को सहारनपुर के देवबंद से चुनाव प्रचार की शुरूआत करेंगे और मायावती सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के संसदीय क्षेत्र मैनपुरी में भी चुनाव प्रचार करेंगी.

अखिलेश-मायावती और चौधीर अजित सिंह मिलकर इसके बाद 13 अप्रैल को बदायूं, 16 अप्रैल को आगरा, 19 अप्रैल को मैनपुरी, 20 अप्रैल को रामपुर, 20 अप्रैल को फिरोजाबाद, 25 अप्रैल को कन्नौज, 1 मई को अयोध्या, 8 मई को आजमगढ़, 13 मई को गोरखपुर, 16 मई को वाराणसी में रैली करेंगे. 

एसपी-बीएसपी-आरएलडी के नेता इन संयुक्त रैलियों के अलावा अलग से भी अपनी अपनी चुनावी रैली करेंगे. खास बात ये है कि अखिलेश-मायावती ने आरएलडी के कोटे वाली सीट पर चुनाव प्रचार करने का कार्यक्रम नहीं जारी किया है. 

सहारनपुर में होने वाली रैली में ही मुज़फ्फरनगर की सीट को भी शामिल किया गया है, जहां से आरएलडी अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह चुनाव लड़ेंगे . वहीं 16 अप्रैल की आगरा की रैली में मथुरा को भी शामिल किया गया है . सहारनपुर से शुरू होने वाली विपक्ष की इन संयुक्त रैलियों का समापन 16 मई को पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में होगा .