अगर सरकार अपराधियों की मदद करेगी तो विद्रोह जरूर होगा: सीताराम येचुरी

सीपीएम नेता ने कहा, '5 रुपए के बिस्कुट का पैकेट भी जनता अब नहीं खरीद पा रही है और वहीं बड़े लोगो को टैक्स से आज़ादी दे रहे है. बड़ा आदमी और बड़ा हो रहा है और गरीब और गरीब होता जा रहा है.' 

अगर सरकार अपराधियों की मदद करेगी तो विद्रोह जरूर होगा: सीताराम येचुरी

कोलकाता: सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने नागरिकता कानून के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन और जेएनयू हिंसा को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा. सीपीएम नेता ने कहा कि यह सरकार अपराधियों की मदद करेगी तो विद्रोह तो जरूर होगा. येचुरी ने कहा कि इस तरह का हिंसात्मक माहौल इससे पहले कभी नहीं देखा गया है, आर्थिक विकास की गति काम हो गई है. सर्विस सेक्टर की हालत चिंताजनक है, बेरोज़गारी बढ़ रही है और इस तरह के समस्याओं के समाधान के लिए मोदी सरकार का बिलकुल भी मन नहीं है.

सीपीएम नेता ने कहा, '5 रुपए के बिस्कुट का पैकेट भी जनता अब नहीं खरीद पा रही है और वहीं बड़े लोगो को टैक्स से आज़ादी दे रहे है. बड़ा आदमी और बड़ा हो रहा है और गरीब और गरीब होता जा रहा है.' 

बीजेपी के राज में ही हिंसा हो रही है 
येचुरी ने जेएनयू हिंसा पर कहा, 'तिरंगे को लेकर ही तो छात्र नारे दे रहे थे - मोदी शाह सावधान बचाएंगे हम संविधान . हम लोगों ने आंदोलन शुरू नहीं करवाया, छात्रों ने खुद यह आंदोलन शुरू किया है क्योंकि देश को बचाना है. हिंसा कहां हो रही है ? हिंसा सबसे ज़्यादा हो रही है उत्तर प्रदेश, असम में जो बीजेपी शासित प्रदेश हैं और दिल्ली जो अमित शाह के कब्ज़े में है.  JNU में जो हुआ वो सब पुलिस की संरक्षण में हुआ. आएशी को लेकर के गन्दी बाते कही यहां के बीजेपी नेता ने . सर पर जब लाठी पड़ती है तो खून ही निकलता है , टमाटर का रस नहीं .और अगर सरकार अपराधियों की मदद करेगा तो विद्रोह तो ज़रूर होगा...

....एक षड्यंत्र को छुपाने की कोशिश की है खुद प्रधानमंत्री ने . भारत में हिन्दू मुसलमानों का विभाजन करना चाहती है यह सरकार. '

यह भी पढ़ें- राज्यों से विदा हो रही है BJP, अगर कांग्रेस की राह पर चलेगी तो देश से भी विदा हो जाएगी: मायावती

सीपीएम नेता ने कहा, 'RSS फासीवादी हिन्दू राष्ट्र तैयार करना चाहती है . देश के विभाजन के वक़्त हिन्दुओ के पास कोई विकल्प नहीं था लेकिन मुसलमानो के पास विकल्प था और उसके बावजूद उन्होंने कहा था की हम इसी मिटटी में पैदा हुए है यहीं पर रहेंगे , हम का मतलब -  'ह ' से हिन्दू और 'म ' से मुस्लमान...

....अगर CAA का विरोध करते है तो कहते है पाकिस्तान चले जाओ . क्यों जाएं ? हम लोग यहाँ के नागरिक हैं और भारतवासी होने के मुताबिक हमारी एक ही किताब है और वो है संविधान . वह लोग हमारे मौलिक अधिकार को रोकना चाहते हैं धर्म के आधार पर.'

370 हटाने का किया विरोध
येचुरी ने कहा, 'कश्मीर से 370 हटा के बीजेपी अपने एजेंडे को प्रतिष्ठित करना चाहती है . 5 महीने से ज़्यादा समय बीत चुका है कश्मीर में इंटरनेट सेवाएं बंद है . सेब , ज़ाफ़रान की बिक्री कैसे करेंगे जब इंटरनेट बंद है . मैंने कोर्ट में लड़ाई करने के बाद श्रीनगर गया और जो ऑफिसर श्रीनगर एयरपोर्ट पर रोकता था आज उसे ही  आतंकवादी बोल कर कर गिरफ्तार किया गया है.'

यह भी पढ़ें- ZEE जानकारी: आखिर अर्थव्यवस्था से जुड़े आंकड़ों का आपकी जिंदगी से क्या है रिश्ता?

टीएमसी क्या चाहती है ममता ही बता सकती है
सीपीएम नेता ने कहा, 'कल सभी विरोधी दलों ने एक बैठक की उसमे ममता शामिल नहीं हुईं . हम लोग राज्य में एक दूसरे के विरोधी तो हो सकते है लेकिन सर्वभारतीय होने के सन्दर्भ में हमे एक साथ लड़ाई करने में कोई आपत्ति नहीं है . यहां पर मोदी आए और ममता के साथ बैठक की और तृणमूल क्या चाहती है वही बता सकते है और तृणमूल का कोई और नेता नहीं बोल पाएगा . संविधान की रक्षा करनी होगी. हम सभी विरोधी दल 23 जनवरी को देश प्रेम दिवस का पालन करेंगे, मोदी जी जय हिंदी को जिओ हिन्द बनाना चाहते है . 23 जनवरी को संविधान का पाठ करके हम सब शपथ लेंगे .'