close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: मायावती ने सुमरत सिंह को सौंपी राजस्थान की कमान, बने नए BSP प्रदेश अध्यक्ष

राजस्थान बीएसपी (BSP) के प्रदेशाध्यक्ष की कमान सुमरत सिंह के हाथ में सौंप दी है. इसके लिए सुमरत सिंह ने केंद्रीय नेतृत्व का आभार जताया. 

जयपुर: मायावती ने सुमरत सिंह को सौंपी राजस्थान की कमान, बने नए BSP प्रदेश अध्यक्ष
राजस्थान में बीएसपी की तमाम जिम्मेदारियां सुमरत सिंह संभालेंगे.

जयपुर: बसपा सुप्रीमों मायावती (Mayawati) ने राजस्थान बीएसपी (BSP) के प्रदेशाध्यक्ष की कमान सुमरत सिंह के हाथ में सौंप दी है. अब राजस्थान में बीएसपी की तमाम जिम्मेदारियां सुमरत सिंह संभालेंगे. इसके लिए सुमरत सिंह ने केंद्रीय नेतृत्व का आभार जताया. साथ ही उन्होने मायावती, रामजी गौतम और मुनका अली का भी आभार जताया.

बता दें कि हाल ही में राजस्थान बीएसपी (BSP)के 6 विधायकों के कांग्रेस में शामिल हो जाने के बाद पार्टी में बिखराव की स्थिति बन गई थी. वहीं राजस्थान बीएसपी  में कलह को देखते हुए बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने प्रदेश कार्यकारिणी को भंग कर दिया था. 

गौरलतब है कि जयपुर में बीएसपी (BSP) की एक बैठक के दौरान काफी बवाल हुआ था. इस दौरान 6 विधायकों के पार्टी छोड़ने के बाद स्थानीय पदाधिकरियों ने सवाल उठाने के बाद झगड़ा हो गया था. इस दौरान मारपीट में महासचिव प्रेम बारूपाल का सिर फोड़ दिया गया था. जिसके बाद यह मामला पुलिस थाने पहुंचा.

बैठक के दौरान हुए विवाद के समय बीएसपी के राष्ट्रीय कन्वीनर रामजी गौतम और पूर्व प्रदेशाध्यक्ष भगवान सिंह बाबा और प्रदेशाध्यक्ष सीताराम मेघवाल जैसे वरिष्ठ नेता मौजूद थे. 

बैठक के दौरान आपसी कहासुनी में बात हाथापाई तक बढ़ी. इस दौरान मारपीट में बीएसपी के प्रदेश महासचिव प्रेम बारूपाल का सिर फट गया. घटना के बाद बारूपाल ने इस मामले में प्रदेशाध्यक्ष सीताराम मेघवाल के साथ सिंधी कैम्प पुलिस थाने पहुंच कर एफआईआर दर्ज कराई. उनका आरोप था कि पार्टी के ही पुराने कार्यकर्ताओं ने बैठक के दौरान हुए विवाद में उन पर सरिये से हमला कर घायल कर दिया. मामले में दूसरे गुट ने भी बीएसपी पदाधिकारियों पर मारपीट के आरोप लगाए थे.

बीएसपी नेता प्रेम बारूपाल ने सिंधी कैम्प थाने में दी शिकायत में विजेंद्र सिंह जाटव, पूरण सिंह परनामी, उमा शंकर, संजय चौहान, रामबाबू बुनकर पर नामजद आरोप लगाए थे. वहीं इन तमाम विवादों के बाद मायावती ने  प्रदेश कार्यकारिणी को भंग कर दिया था. जिसके बाद अब बीएसपी के प्रदेशाध्यक्ष की कमान सुमरत सिंह के हाथों में दी गई है.