close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झालावाड़: बारिश के कारण फसलों के भारी नुकसान को लेकर किसानों ने की मुआवजे की मांग

जिले में लगातार हुई बारिश से किसानों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है. उसी नुकसान की भरपाई को लिए किसान लगातार प्रशासन से मांग कर रहे है. 

झालावाड़: बारिश के कारण फसलों के भारी नुकसान को लेकर किसानों ने की मुआवजे की मांग
बारिश के कारण किसानों को भारी आर्थिक नुकसान हुआ है.

झालावाड़: पिड़ावा में लगातार हुई भारी बारिश से नष्ट हुई फसल के मुआवजे की मांग को लेकर किसानों का गुस्सा फूटने लगा है. इसी कड़ी में किसानों ने उपखंड कार्यालय और तहसील कार्यालय के सामने जमकर प्रदर्शन किया. यहां तक कि ग्रामीणों ने अपनी मांगों को लेकर उपखंड अधिकारी और तहसीलदार को ज्ञापन भी सौंपा.

बता दें कि जिले में लगातार हुई बारिश से किसानों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है. उसी नुकसान की भरपाई को लिए किसान लगातार प्रशासन से मांग कर रहे है. किसानों ने उपखंड अधिकारी और तहसीलदार के सौंपे ज्ञापन में बताया कि ग्राम पंचायत नोलाई के रुपाखेड़ी गांव के सभी किसानों की सोयाबीन, उड़द, तिल, चंवला आदि फसलें पूरी तरह से नष्ट हो गई है, जिससे किसानों को भारी आर्थिक नुकसान हुआ है.

इससे पहले भी राजस्थान के कोटा में किसान बारिश से हुए फसलों के नुकसान को लेकर प्रदर्शन कर चुके है. इस दौरान बारिश से हुए करोड़ों के नुकसान को लेकर ने किसानों ने एसडीएम कार्यालय पर प्रदर्शन किया था. जहां किसानों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा था.

बता दें कि प्रदेश सरकार किसानों के लिए खरीफ की फसल पर ऋण की घोषणा पहले कर चुकी है. लेकिन बारिश के चलते हुए हजारों हेक्टेयर फसल खराबे को लेकर किसान लगातार मुआवज़े की मांग कर रहे है. 

गौरतलब है कि हाल ही में राजस्थान कई हिस्सों में बारिश के कारण तालाब बांध और एनीकट ओवर फ्लो होकर टूट गए थे. जिससे कई निचले इलाकों में पानी भर गया था. कई क्षेत्रों के हालात ऐसे थे कि प्रशासन को चेतावनी भी देनी पड़ी थी. 

यहां तक कि बारिश की वजह से सड़कें पानी में बह गई थी जिससे धांधोली पंचायत के कई गांवों का सम्पर्क टूट गया था. इस दौरान खेतों में भी पानी भर गया था. जिसके चलते किसानों के चेहरों पर भी चिंता की लकीरें छाने लग गई थी. अब आलम ये है कि किसान बारिश में तबाह हुई फसलों के मुआवजे को लेकर सड़कों पर उतरने लगे हैं.