वेदांती महराज ने घोषित की राम मंदिर निर्माण की तारीख, राम के ननिहाल में किया 'कारसेवा' का आह्वान

राम मंदिर बनाने की घोषणा राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण न्यास के प्रमुख सदस्य और पूर्व बीजेपी सांसद राम विलास वेदांती महराज ने की

वेदांती महराज ने घोषित की राम मंदिर निर्माण की तारीख, राम के ननिहाल में किया 'कारसेवा' का आह्वान
वेदांती महराज ने घोषणा की कि राम मंदिर निर्माण का काम इस साल 6 दिसंबर 2018 से शुरू हो जाएगा

दुर्ग: अयोध्या में राम जन्म भूमि और राम मंदिर विवाद इन दिनों चरम पर है. सुप्रीम कोर्ट में इसकी सुनवाई भी शुरू हो चुकी है और अदालत के बाहर आपसी बातचीत से कोई समाधान निकालने की कोशिश भी हो रही है. मंदिर बनाने को लेकर अयोध्या के साधू-संतों ने कई बार घोषणा की थी लेकिन, इस बार राम मंदिर बनाने की घोषणा राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण न्यास के प्रमुख सदस्य और पूर्व बीजेपी सांसद राम विलास वेदांती महराज ने की है. वेदांती का मानना है कि साल के अंत तक मंदिर निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. वेदांती महराज ने यह बात छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कही.

6 दिसंबर 2018 से शुरू होगा मंदिर निर्माण
जी मीडिया से हुई खास बातचीत में वेदांती ने कहा, "भगवान राम की मां कौशल्या का जन्म छत्तीसगढ़ में हुआ था. इसलिए यह भगवान राम का ननिहाल है. मैं अपने ननिहाल आया हूं. श्रीराम हमारे सखा हैं इसलिए छत्तीसगढ़ की पावन भूमि मेरा भी ननिहाल है." इस दौरान उन्होंने घोषणा की कि राम मंदिर निर्माण का काम इस साल 6 दिसंबर 2018 से शुरू हो जाएगा. इसके साथ ही उन्होंने कारसेवा के लिए छत्तीसगढ़ की जनता का आह्वान भी किया.

राम के ननिहाल से की मंदिर निर्माण की घोषणा
वेदांती ने आगे कहा, "भगवान श्रीराम के ननिहाल माता कौशल्या की जन्मभूमि से आह्वान करता हुं कि जिस तरह 1992 में छत्तीसगढ़ से लाखों लोग कारसेवक के रूप में अयोध्या पहुंचे थे उसी तरह 6 दिसंबर 2018 को भी अयोध्या पहुंच कर राम मंदिर नींव निर्माण में साक्षी बनें. मुझे गर्व है कि इस मंदिर निर्माण की बात की घोषणा मर्यादा पुरुषोत्तम राम के ननिहाल की भूमि से कर रहा हूं."

अयोध्या पहुंचा 'राम राज्य रथ यात्रा' का रथ
वहीं दूसरी ओर 'राम राज्य रथ यात्रा' का रथ अयोध्या स्थित कारसेवक पुरम पहुंच चुका है. जानकारी के मुताबिक 13 फरवरी को अयोध्या से रामेश्वरम तक के लिए यह रथ निकलेगा. यह राम राज्य रथ यात्रा 41 दिनों तक चलेगी. इस मौके पर संत शक्ति सन्तानन्द ने कहा, "राम मंदिर निर्माण व राम राज्य लाने के लिए रथ यात्रा का आयोजन किया गया है. विहिप व हिन्दू वादी संगठनों का सहयोग प्राप्त है. आडवाणी की रथ यात्रा राजनीतिक थी, यह यात्रा धार्मिक है. सीएम योगी को 13 फरवरी को रथ को हरी झंडी दिखाने के लिए बुलाया गया है."