close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारी: जानें पूर्व पीएम चंद्रशेखर को क्यों कहा जाता था 'बलिया का बागी'

चंद्रशेखर ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय के एक छात्र नेता के रूप में अपने राजनीतिक करियर की शुरूआत की थी.

ZEE जानकारी: जानें पूर्व पीएम चंद्रशेखर को क्यों कहा जाता था 'बलिया का बागी'

आज हम आपको भारतीय राजनीति के उस महान नेता से मिलवाना चाहते हैं . जो पद..कुर्सी और सत्ता की चाहत से बहुत ऊपर थे . आप में से ज़्यादातर लोग उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री के रूप में जानते हैं लेकिन वो अपने इस पद की पहचान से ज़्यादा... राजनीति के एक आदर्श नेता के रूप में विख्यात हुए . हम भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और राजनीति के Angry Young Man स्वर्गीय चंद्रशेखर की बात कर रहे हैं .

आज की पीढ़ी के बहुत से लोग चंद्रशेखर के जीवन से कम परिचित होंगे . उत्तर प्रदेश के बलिया के रहने वाले चंद्रशेखर ...एक किसान परिवार से देश के सबसे बड़े राजनीतिक पद तक पहुंचे थे . वो 8 बार बलिया से सांसद चुने थे . उन्हें बलिया का बागी भी कहा जाता था क्योंकि जनता से जुड़े मुद्दों के लिए वो किसी तरह का समझौता नहीं करते थे . 

अगर आप चंद्रशेखर के जीवन को करीब से जानना चाहते हैं तो इस काम में उन पर लिखी गई किताब Chandra Shekhar - The Last Icon of Ideological Politics आपकी बहुत मदद कर सकती है. इस किताब को राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने लिखा है .

कल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संसद परिसर में इस किताब का विमोचन किया . इस मौके पर नरेन्द्र मोदी ने चंद्रशेखर के साथ अपनी पुरानी यादों को शेयर किया . ये वो दौर था जब नरेन्द्र मोदी एक युवा नेता के रूप में अपनी पहचान बना रहे थे और चंद्रशेखर ..भारतीय राजनीति में बड़े कद के नेता के रूप में स्थापित हो चुके थे . 

चंद्रशेखर ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय के एक छात्र नेता के रूप में अपने राजनीतिक करियर की शुरूआत की थी और 1965 में कांग्रेस में शामिल हो गए . एक कांग्रेसी नेता होने के बावजूद वो...अपनी नेता... इंदिरा गांधी की नीतियों का विरोध करते रहे . 1975 में इमरजेंसी के विरोध में उन्हें जेल भी जाना पड़ा . 

आप में से ज़्यादातर लोगों को ये ये जानकारी नहीं होगी कि चंद्रशेखर में एक कुशल पत्रकार होने के गुण भी थे . वर्ष 1998 में वो Zee News के लिये एक कार्यक्रम किया करते थे . जिसका नाम था . दिशा संवाद ...इस कार्यक्रम में वो देश की राजनीतिक परिस्थियों पर अपने विचार रखते थे और इससे जुड़े मुद्दों पर कई बड़े नेताओं के इंटरव्यू भी करते थे .