अपने खिलाफ कार्यकर्ताओं की नारेबाजी सुन घबरा गईं नवनीत राणा, कार में बैठे-बैठे पोछती रहीं आंसू
trendingNow1516792

अपने खिलाफ कार्यकर्ताओं की नारेबाजी सुन घबरा गईं नवनीत राणा, कार में बैठे-बैठे पोछती रहीं आंसू

बीते सोमवार की शाम जब नवनीत कौर राणा अमरावती के लालाखड़ी इलाके में प्रचार करने पहुंचीं तो कांग्रेस के स्थानीय नेता जोर-जोर से उनके खिलाफ नारेबाजी करने लगे. इस पर नवनीत कौर इतना डर गईं, कि वह रोने ही लगीं.

कार में बैठे-बैठे भी रोती रहीं नवनीत कौर राणा

अमरावतीः कभी तेलुगु फिल्म की अभिनेत्री रही अमरावती लोकसभा चुनाव क्षेत्र से प्रत्याशी नवनीत कौर राणा युवा स्वाभिमानी पक्ष की उम्मीदवार हैं. जिनका मुकाबला शिवसेना के कद्दावर नेता और वर्तमान सांसद आंनदराव अडसुल से हो रहा है. नवनीत को कांग्रेस-एनसीपी पार्टी ने समर्थन दिया है, लेकिन स्थानीय स्तर पर कई कांग्रेस नेता अब भी नवनीत कौर के विपक्ष में खड़े हैं और अमरावती से सांसद प्रत्याशी के तौर पर उन्हें स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं. ऐसे में बीते सोमवार की शाम जब नवनीत कौर राणा अमरावती के लालाखड़ी इलाके में प्रचार करने पहुंचीं तो कांग्रेस के स्थानीय नेता जोर-जोर से उनके खिलाफ नारेबाजी करने लगे. इस पर नवनीत कौर इतना डर गईं, कि वह रोने ही लगीं.

भड़काऊ भाषण: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- 'लगता है चुनाव आयोग को उसका अधिकार वापस मिल गया है.'

इस दौरान कांग्रेस के पुर्व विधायक रावसाहेब शेखावत भी नवनीत के साथ थे. उन्होनें लोगों को समझाने की कोशिश भी की, लेकिन गुस्साए कार्यकर्ता लगातार नारेबाजी करते रहे. ऐसे में रावसाहेब शेखावत कार्यकर्ताओं को समझाने भीड़ के बीच जा पहुंचे, जिस पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके साथ धक्का-मुक्की शुरू कर दी और वहां से जाने को कहने लगे. वहीं कार्यकर्ताओं में विरोध देख नवनीत राणा काफी घबरा गईं और अपने आंसू नही रोक पाईं. घटना के बाद सुरक्षा के मद्देनजर उन्हें गाड़ी में बैठा दिया गया. जिसके बाद वह गाड़ी में बैठकर रोती रहीं. 

यू-टर्न वाले बयान पर केजरीवाल का राहुल गांधी को जवाब, BJP की मदद करने का लगाया आरोप

वहीं कार्यकर्ताओं की नारेबाजी और तेलुगू फिल्मों में एक्ट्रेस रही नवनीत कौर राणा के रोने का पूरा वाक्या कैमरे में रिकॉर्ड हो गया. जो कि अब काफी वायरल हो रहा है. बता दें राणा पिछले कई सालों से इस लोकसभा चुनाव के तैयारी में जुट गई थीं. अमरावती में उनका सीधा सामना  शिवसेना के आनंदराव अडसूल से है. बता दें असडूल शिवसेना के कद्दावर नेताओं में से एक हैं ऐसे में असडूल को मात देना नवनीत कौर के लिए मुश्किल काम साबित हो सकता है. वहीं नवनीत राणा को कांग्रेस-एनसीपी का समर्थन तो मिला लेकिन जमीनी स्तर पर कार्यकर्ता अब तक भी नवनीत राणा से जुड़े नहीं हैं. 

Trending news