close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पूर्व सांसद पुतुल सिंह को BJP ने पार्टी से निकाला, बांका से लड़ रही है निर्दलीय चुनाव

पूर्व सांसद पुतुल सिंह को बीजेपी ने 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है.

पूर्व सांसद पुतुल सिंह को BJP ने पार्टी से निकाला, बांका से लड़ रही है निर्दलीय चुनाव
पुतुल सिंह को बीजेपी ने पार्टी से निष्कासित कर दिया है. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव में बागी नेताओं के खिलाफ बीजेपी ने कार्रवाई शुरू कर दी है. अब इसके तहत बिहार स्थित बांका से पूर्व सांसद पुतुल सिंह को पार्टी से निकाल दिया गया है. बता दें कि पुतुल सिंह बांका लोकसभा क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नोमिनेशन कराया है. जिसके बाद बीजेपी ने कार्रवाई करते हुए उन्हें बीजेपी से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया है.

बांका लोकसभा सीट एनडीए के सहयोगी दल जेडीयू के खाते में गई है. जेडीयू ने यहां से गिरिधारी यादव को उम्मीदवार बनाया है. वहीं, जेडीयू के खाते में बांका सीट जाने और पुतुल सिंह का टिकट काटने के बाद उन्होंने बागी तेवर अपना लिया है. पुतुल सिंह ने बांका से निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला लेते हुए नोमिनेशन भी करवाया है.

पुतुल सिंह के इस बागी तेवर से नाराज बीजपी ने उन्हें चेतावनी दी थी कि अगर वह नामांकन वापस नहीं लिया तो उनपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. लेकिन पुतुल सिंह ने इसकी परवाह नहीं की. अब बीजेपी ने पुतुल सिंह को 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है.

बता दें कि पुतुल सिंह 2014 में बांका से बीजेपी की उम्मीदवार थी. लेकिन वह आरजेडी के जयप्रकाश यादव से हार गई थी. इसलिए इस बार यह सीट जेडीयू के खाते में दिया गया है. पुतुल सिंह पूर्व सांसद दिग्विजय सिंह की पत्नी हैं और उनकी निधन के बाद 2010 के उपचुनाव में पुतुल सिंह निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में बांका सीट से जीती थी. इससे पहले 2009 में दिवंगत दिग्विजय सिंह भी निर्दलीय चुनाव जीता था. क्योंकि उनका टिकट जेडीयू से काट दिया गया था. पुतुल सिंह भारतीय शूटर खिलाड़ी श्रेयसी सिंह की मां है.

गौरतलब है कि बीजेपी एमएलसी अशोक अग्रवाल ने भी कटिहार सीट पर निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला किया था. लेकिन नामांकन कराने के बाद पार्टी ने कार्रवाई की चेतावनी दी. जिसके बाद उन्होंने नामांकन वापस लेने का फैसला किया.