दिग्विजय के सामने फीकी है शिवराज की 'मामागिरी', भोपाल से PM मोदी लड़ें चुनावः BJP नेता

प्रधानमंत्री मोदी ही वह प्रत्याशी हैं, जो दिग्विजय सिंह को भोपाल में करारी शिकस्त दे सकते हैं.

दिग्विजय के सामने फीकी है शिवराज की 'मामागिरी', भोपाल से PM मोदी लड़ें चुनावः BJP नेता
फाइल फोटो

जबलपुरः मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी नेता और भारतीय अनुसूचित जाति-जनजाति अधिकार परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष इंद्रेश गजभिए ने भोपाल लोकसभा सीट को लेकर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को चिट्ठी लिखी है, जिसमें उन्होंने भोपाल से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्रत्याशी बनाने की बात कही है. बीजेपी नेता इंद्रेश गजभिए का कहना है कि 'भोपाल लोकसभा क्षेत्र से शिवराज सिंह चौहान को प्रत्याशी घोषित करना भाजपा को मंहगा पड़ सकता है. क्योंकि पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह, दिग्विजय सिंह के सामने कमजोर प्रत्याशी हैं. इसलिए भाजपा को भोपाल लोकसभा क्षेत्र के लिए ऐसा प्रत्याशी घोषित करना चाहिए, जो दिग्विजय सिंह को मात दे सके और प्रधानमंत्री मोदी ही वह प्रत्याशी हैं, जो दिग्विजय सिंह को भोपाल में करारी शिकस्त दे सकते हैं.'

दिग्विजय सिंह के चुनावी मैदान में उतरते ही संघ ने BJP नेताओं के साथ की मैराथन बैठक

बीजेपी नेता इंद्रेश गजभिए का कहना है कि 'शिवराज सिंह की मामागिरी अब फीकी पड़ चुकी है. इसलिए वह दिग्विजय सिंह के सामने कमजोर खिलाड़ी साबित हो सकते हैं. भाजपा अगर भोपाल से प्रधानमंत्री मोदी को चुनावी मैदान में उतारती है तो मध्य प्रदेश में बीजेपी को सभी 29 सीटों पर जीत हासिल हो सकती है.' बीजेपी नेता ने आगे कहा कि 'शिवराज सिंह को अपनी छवि बनाने के लिए दिग्विजय सिंह की ही तरह 10 साल का संन्यास लेना चाहिए, ताकि वे जनता के बीच अपनी बिगड़ी छवि सुधार सकें. इसके बाद ही उन्हें राजनीति में वापसी करनी चाहिए.'

BJP ने अगर दिग्‍व‍िजय के सामने उतारा शिवराज सिंह को तो दोहराई जाएगी 16 साल पुरानी जंग

वहीं बालाघाट लोकसभा क्षेत्र से अपनी दावेदारी के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि 'मैंने दलितों के लिए संघर्ष किया है. इसीलिए मैंने अपने गृह जिले बालाघाट या आरक्षित सीट देवास से टिकट मांगा है. भाजपा ने अंबेडकर वादियों से दूरी बना ली है. वीरेंद्र खटीक, संध्या राय और अनिल फिरोजिया अंबेडकर वादी से नहीं हैं. इसलिए भाजपा ने अगर मुझे टिकट नहीं दी तो बालाघाट और देवास में हार सुनिश्चित है. वीरेंद्र खटीक, संध्या राय और अनिल फिरोजिया में से कोई नहीं है जो भाजपा को बालाघाट में जीत दिला सके. मैं ही बीजेपी को जीत दिलाने में सक्षम हूं.'