close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

फिरोजाबाद से चुनाव लड़ेंगे शिवपाल, चाचा और भतीजे के बीच होगी जंग!

इस सीट से अभी सपा के वरिष्ठ नेता और शिवपाल के चचेरे भाई रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव सांसद हैं. अब शिवपाल के मैदान में आने से उनकी राह मुश्किल हो सकती है.

फिरोजाबाद से चुनाव लड़ेंगे शिवपाल, चाचा और भतीजे के बीच होगी जंग!
श्‍‍ि‍ावपाल यादव सपा से अलग होकर नई पार्टी बना चुके हैं. फाइल फोटो

इटावा: समाजवादी पार्टी से अलग होकर अपनी पार्टी बनाने वाले मुलायम सिंह के भाई शिवपाल यादव ने ऐलान किया है कि वह लोकसभा में फिरोजाबाद से चुनाव लड़ेंगे. उनकी इस घोषणा से सबसे ज्यादा झटका, सपा और बसपा गठबंधन को लगेगा. इस सीट से अभी सपा के वरिष्ठ नेता और शिवपाल के चचेरे भाई रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव सांसद हैं. अब शिवपाल के मैदान में आने से उनकी राह मुश्किल हो सकती है. शिवपाल का भी इलाका यही माना जाता है. वह जसवंतपुर से लंबे समय तक विधायक चुने जाते रहे हैं.

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो शिवपाल की इस घोषणा पर रामगोपाल ने कहा है कि इस सीट से अक्षय ही चुनाव लड़ेंगे. यानी कि इस सीट पर चाचा भतीजे की लड़ाई तय है. उधर, शिवपाल सिंह ने कहा है कि जनता की मांग पर वह फिरोजाबाद जिले से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे.

जब हमने बहन ही नहीं माना तो बुआ कैसे
शिवपाल ने अखिलेश पर सवाल उठाते हुए कहा कि मायावती को कभी हमने और नेताजी जी ने बहन माना ही नहीं तो वह अखिलेश की बुआ कैसे बन गईं. नेताजी का अपमान किसने किया. यह आप लोग जानते हो. यह वही बहन जी हैं, जिनको ना नेताजी ने बहन बनाया और ना हमने. जब बहन नहीं बनाया तो वह अखिलेश की बुआ कैसे हो गईं.

शिवपाल ने कहा, बुआ का कोई भरोसा नहीं है.  उन्होंने तीन बार बीजेपी से मिलकर नेताजी को धोखा देकर भाजपा की सरकार बनाई. बुआ ने अपने भाई को और बबुआ ने नेताजी को धोखा दिया है.
लोकसभा चुनाव लड़ने पर कहा की वह ऐलान तीन तारीख को फिरोजाबाद में होने वाली रैली में करेंगे. बबुआ ने अपने बाप को और बुआ ने अपने भाई को धोखा दिया. अब बताओ इन पर कौन भरोसा  करे. मैंने कहा मुझे कुछ नहीं चाहिए मुझे सिर्फ सम्मान चाहिए. मैंने अखिलेश के लिए क्या क्या नहीं किया पढ़ाई से लेकर कहां तक किया. क्या ऐसे लोगों पर भरोसा करना चाहिए, जो अपने चाचा और बाप का सम्मान नहीं करे. इसीलिए मुझे प्रगतिशील पार्टी बनानी पड़ी.