close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पूर्व मंत्री मुस्तफा ने राहुल को कहा ‘जोकर’ तो पार्टी ने दिखाया बाहर का रास्ता

लोकसभा चुनावों में हार के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को अपनों से ही आलोचना झेलनी पड़ रही है।

ज़ी मीडिया ब्यूरो/संजीव कुमार दुबे
तिरूवनंतपुरम/नई दिल्ली : राहुल गांधी को ‘जोकर’ कहने के लिए केरल के पूर्व मंत्री टी.एच. मुस्तफा को कांग्रेस से निलंबित कर दिया गया है। लोकसभा चुनावों में पार्टी की हार के परिप्रेक्ष्य में मुस्तफा ने कहा था कि राहुल अगर पद नहीं छोड़ते तो उन्हें हटा दिया जाना चाहिए ।
मुस्तफा की टिप्पणी से विवाद बढ़ गया और पार्टी के कुछ नेताओं ने इसकी निंदा की। चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन को लेकर केपीसीसी की समीक्षा बैठक हुई जिसमें पाया गया कि कांग्रेस नेता ने राहुल के खिलाफ प्रतिकूल टिप्पणी कर ‘गंभीर गलती’ की है। केपीसीसी के अध्यक्ष वी.एम. सुधीरन ने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि मुस्तफा ने प्रथम दृष्ट्या संगठन के अनुशासन एवं शिष्टाचार को भंग किया है और उन्हें प्राथमिक सदस्यता से निलंबित किया जाता है। उनके इस व्यवहार की जांच होगी।
उन्होंने कहा कि पार्टी ने राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर स्पष्ट रूख अपनाया था कि हार के लिए नेताओं को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए। के. करूणाकरण मंत्रालय में 1990 के दशक में मंत्री रहे मुस्तफा ने कोच्चि में बुधवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्रचार के दौरान राहुल अपने नजदीकी लोगों से घिरे रहे। उन्होंने कहा कि चुनावों में ‘जोकर की तरह काम करने’ से कोई फायदा नहीं होने वाला।
मुस्तफा ने कहा था, ‘उन्हें पार्टी से इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्हें पद पर नहीं बने रहना चाहिए। अगर वह स्वेच्छा से इस्तीफा नहीं देते तो उन्हें हटा दिया जाना चाहिए। उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान जोकर की तरह काम किया।’ टिप्पणी पर आपत्ति जताते हुए राज्य युवा कांग्रेस के अध्यक्ष डीन कुरियाकोसे ने बैठक में मुद्दे को उठाया और पार्टी से मुस्तफा को निकालने की मांग की।
इस बीच, मुस्तफा ने अपने बयान पर कायम रहते हुए कहा कि पार्टी उनका पक्ष सुने बगैर उन्हें निलबित नहीं कर सकती। उन्होंने अनुशासनात्मक कार्रवाई पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए एक मलयालम टीवी चैनल से कहा, ‘मैं राहुल गांधी के खिलाफ अपने बयान पर पूरी तरह से अडिग हूं।’ उन्होंने पूछा, ‘कांग्रेस सिर्फ 44 सीट जीतने में ही कामयाब हो पाई। क्या यह पार्टी की उपलब्धि है?’ इसी से जुड़े एक अन्य घटनाक्रम में युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कोच्चि में मुस्तफा के पुतले फूंके। (एजेंसी इनपुट के साथ)