आज भी रहस्य है भारत की ये खौफनाक जगह, यहां ब्रिटिश भी नहीं कर पाए हुकूमत

भारत के अंडमान निकोबार (Andaman and Nicobar) द्वीप समूह में स्थित नॉर्थ सेंटिनल द्वीप (North Sentinel Island) एक ऐसी जगह है जहां ब्रिटिश हुकूमत का राज नहीं चला. हाल ही में साल 2018 में यहां एक अमेरिकी मिशनरी जॉन ऐलन चाउ (John Allen Chou) को यहां के आदिवासियों ने मार डाला था.

आज भी रहस्य है भारत की ये खौफनाक जगह, यहां ब्रिटिश भी नहीं कर पाए हुकूमत
फाइल फोटो

नई दिल्ली: अंग्रेजी हुकूमत ने भारत में लगभग 200 सालों तक राज किया था लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि देश का एक ऐसा इलाका है जहां वह कभी कब्जा नहीं कर पाए.भारत के अंडमान निकोबार (Andaman and Nicobar) द्वीप समूह में स्थित नॉर्थ सेंटिनल द्वीप (North Sentinel Island) एक ऐसी जगह है जहां ब्रिटिश हुकूमत का राज नहीं चला. हाल ही में साल 2018 में यहां एक अमेरिकी मिशनरी जॉन ऐलन चाउ (John Allen Chou) को यहां के आदिवासियों ने मार डाला था.

अमेरिकी मिशनरी की मौत की घटना ने एक बार फिर लोगों का ध्यान वहां के खौफनाक परिदृश्य की तरफ खींचा. जॉन ऐलन चाउ 17 नवंबर साल 2018 की रात गायब हो गए थे. इसके बाद अमेरिकी मिशनरी जॉन का शव लाने पुलिस गई थी, लेकिन आदिवासियों के बीच का खौफनाक मंजर देखकर उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ा था. 

आदिवासियों के हाथ में तीर-धनुष देखकर डर गई थी पुलिस 
दरअसल, जब पुलिस वहां गई तब तब आदिवासियों के हाथ में तीर-धनुष देखकर डर गई थी. दूरबीन से देखने पर पता चला कि वहां के आदिवासी तीर-कमान लेकर काफी गुस्से में थे. ऐसी स्थिति में पुलिस की हिम्मत नहीं हुई उन आदिवासियों से टकराने की. इस इलाके में जारवा और सेंटिनली नामक आदिवासी प्रजाति रहती है.

हिम्मत अंग्रेजी हुकूमत भी इनसे हार गई थी 
पुलिसवालों को इन आदिवासियों का खौफ होना लाजिम है.  ये वो ही आदिवासी हैं जिनसे टकराने की हिम्मत अंग्रेजी हुकूमत में भी नहीं थी. ब्रिटिश हुकूमत ने कई बार इन रहस्यमयी आदिवासियों से टकराने की कोशिश की थी, लेकिन दो सदी तक राज करने के बाद भी अंग्रेज इन आदिवासियों पर कभी गुलामी की जंजीर न बांध पाए. भारत का हिस्सा होने से पहले ब्रिटिश हुकूमत ने अंडमान-निकोबार के मूल निवासियों से टकराने की कई बार नाकाम कोशिश की थी, 

ये भी पढ़ें- Hop Shoots: यह है दुनिया की सबसे महंगी सब्जी, कीमत जानकर उड़ जाएंगे होश

VIDEO

अंग्रेज इनकी पूरी आबादी खत्म करना चाहते थे 
ब्रिटिश प्रशासन ने इन आदिवासियों को क्रूर मानते हुए इनकी पूरी आबादी को खत्म करने का फैसला किया था. लेकिन सलाहकारों की समझाइश के बाद इन आदिवासियों को दुनिया के अन्य लोगों के साथ जोड़ने की कोशिश शुरू की गई. तत्कालीन ब्रिटिश अधिकारी एम.वी. पोर्टमैन ने 1899 में अपनी किताब में इनके क्रूरता का जिक्र किया है. 

अंग्रेजी हुकूमत की नीति दो चरमपंथी ध्रुवों के बीच डगमगाती रही
तत्कालीन ब्रिटिश अधिकारी एम.वी. पोर्टमैन (M V Portman) ने अपनी किताब 'A History of Our Relations with the Andamanese' (अंडमानियों के साथ रिश्तों का इतिहास) में वहां घटित कुछ घटनाओं का उल्लेख किया है. उन्होंने लिखा है कि कैसे अंग्रेजी हुकूमत की नीति दो चरमपंथी ध्रुवों के बीच डगमगाती रही. मार्च 1896 में जारवा कबीले के तीन खतरनाक आदिवासियों ने अंडमान के जंगल में काम करने वाले कैदियों पर हमला कर दिया था जिसमे एक कैदी की दर्दनाक मौत हो गई थी.

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.