close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अगर आप दिल्ली मेट्रो या मुंबई लोकल में सफर करते हैं, तो ये VIDEO आपके लिए है

खास बात ये है कि जब आप अपने गंतव्य स्थान पर उतरने की कोशिश करते हैं तो भीड़ का एक हिस्सा आपको बाहर की ओर धक्का दे देता है और आप बिना मशक्कत किए ही बाहर निकल जाते हैं. कुछ ऐसा ही जर्मन के एक डिजाइनर के साथ मुंबई में हुआ है.

अगर आप दिल्ली मेट्रो या मुंबई लोकल में सफर करते हैं, तो ये VIDEO आपके लिए है
फोटो साभार: ट्विटर/@Humor_DNA

नई दिल्ली : क्या आपने कभी दिल्ली मेट्रो या फिर मुंबई की लोकल में सफर किया है. क्योंकि जिन लोगों ने दिल्ली मेट्रो और मुंबई की लोकल में सफर किया होता है वो जानते हैं कि एक बार ट्रेन में घुसने का मतलब है सिर्फ और सिर्फ सिरों का दिखाई देना. ट्रेन में जहां तक नजर जाती है, बाल ही नजर आते हैं. 

खास बात ये है कि जब आप अपने गंतव्य स्थान पर उतरने की कोशिश करते हैं तो भीड़ का एक हिस्सा आपको बाहर की ओर धक्का दे देता है और आप बिना मशक्कत किए ही बाहर निकल जाते हैं. कुछ ऐसा ही जर्मन के एक डिजाइनर के साथ मुंबई में हुआ है और उन्होंने अपना दुख जाहिर करने के लिए पिंक ब्लून का एक ऐसा वीडियो बनाया है, जिसकी चर्चा सोशल मीडिया पर तेजी से हो रही है. 

VIDEO: बेजोड़ है यह सेल्समैन, देखिए कैसे नेता-चुनावों का विश्लेषण करते हुए बेचता है सामान

अपने सोशल मीडिया पर इन गुब्बारों से बने वीडियो को शेयर करते हुए जर्मन डिजाइनर ने "क्राउडेड" लिखा है. इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि कैसे एक कई सारे पिंक गुब्बारों पर बने चेहरे के बीच एक चेहरा ऐसा भी है जो भीड़ से निकलने की कोशिश कर रहा है और बाहर निकलना चाहता है. एक यात्रा को खत्म करके दूसरी यात्रा यानि की भीड़ के दूसरे हिस्से में पहुंच जाता है. 

VIDEO : डिप्लोमा मिलने की इतनी खुशी की लाइन में स्टंट करने लगा छात्र, और...

इस प्यारे से वीडियो को सोशल मीडिया पर काफी पसंद किया जा रहा है. लोगों का कहना है कि वह इसी भीड़ का हिस्सा है. एक शख्स ने इस वीडियो को शेयर करते हुए दिल्ली मेट्रो की कहानी को बताया है. शख्स ने लिखा है कि वह एक बार नई दिल्ली से नोएडा जा रहा था, राजीव चौक पर इंटरचेंज करने के दौरान उन्हें ऐसा लगा कि उन्हें चलने के लिए और ट्रेन में चढ़ने के लिए किसी तरह की मेहनत नहीं पड़ी.