आतंकवादियों को बिरयानी खिला-खिलाकर बर्बाद हुआ पाकिस्तान, अब आटे का भी जुगाड़ नहीं

आतंकवादियों को बिरयानी खिला-खिलाकर पाकिस्तान बर्बादी की कगार पर आ गया है. हालत इतनी खराब है कि अब आटे की भी जुगाड़ नहीं है. लोग भूखे हैं, लइनों में लगे हैं लेकिन आटा नहीं मिल रहा.

आतंकवादियों को बिरयानी खिला-खिलाकर बर्बाद हुआ पाकिस्तान, अब आटे का भी जुगाड़ नहीं
पाकिस्तान की हालत बद्तर हो चली है, अपनी हरकतें उसे भारी पड़ रही है.

इस्लामाबाद: आतंकवादियों को बिरयानी खिलाना पाकिस्तान (Pakistan) को महंगा पड़ता जा रहा है. दूसरों के लिए सिरदर्दी पैदा करने वाले पाकिस्तान के हालात बद से बद्तर हो गए हैं. शिक्षा, रोजगार कानून व्यवस्था के लिहाज से तो पहले से ही पीछे था अब तो खाने को भी तबाह हो रहा है. पाकिस्तान में आटे के लिए हाहाकार मचा हुआ है. पाकिस्तानी सेना (Pakistan Army) के लिए रुपए मांगती घूम रही इमरान सरकार (Imran Khan Government) अपने देश के लोगों को दो वक्त की रोटी तक नसीब नहीं करवा रही है.

यह भी पढ़ें: आतंरिक मामलों पर चीन की बयानबाजी से नाराज भारत ने दिया यह कड़ा संदेश

आटे की लिए मारामारी
पाकिस्तान में लगातार गेहूं की आसमान छूती कीमतों का असर अब आटे के दाम पर भी दिखने लगा है. देश के कई हिस्सों में आटा अब 75 रुपए किलो से भी अधिक पर बिक रहा है. इतना ही नहीं अब यह आटा रुपए देने के बाद भी नहीं मिल रहा है. पाकिस्तान के चारों प्रांतों सिंध, बलूचिस्तान, पंजाब और खैबर पख्तूनख्वा आटे की किल्लत से जूझ रहे हैं. सिंध और कई अन्य  प्रांतों में लोगों को लंबी-लंबी लाइन में घंटों इंतजार करना पड़ रहा है उसे बाद भी आटा नहीं मिल रहा. हालात यहां तक पहुंच चुके हैं कि नान बेचने वाले दुकानदार हड़ताल पर जा रहे हैं लोग भूखे सो रहे हैं.

भारत से लड़ाई पड़ रही भारी
पाकिस्तान को भारत से लड़ाई सबसे अधिक महंगी पड़ रही है. पुलवामा हमले (Pulwama attack) से पहले तक पाकिस्तान को मोस्ट फेवर्ड नेशंस का दर्जा प्राप्त था जो उसकी हरकतों की वजह से भारत ने वापस ले लिया. इसके साथ ही आयात पर 200 फीसद कस्टम ड्यूटी लगा दी. पहले से ही फटेहाल गुजर बसर कर रहे पाकिस्तान के लिए ये बड़ा झटका था. आतंकवादियों को बिरियानी खिलाने के अलावा उसके पास कुछ बचा नहीं है इसलिए 200 फीसदी कस्टम ड्यूटी चुकाना उसके बस की नवहीं.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.