close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्‍तान की एक और बड़ी नापाक हरकत को भारत ने अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर कर दिया 'नाकाम'

पेरिस (Paris) स्थित पाकिस्तानी दूतावास फ्रांस की संसद नेशनल असेंबली में PoK के राष्ट्रपति मसूद खान का कार्यक्रम कराना चाहता था. 

पाकिस्‍तान की एक और बड़ी नापाक हरकत को भारत ने अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर कर दिया 'नाकाम'
फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : पाकिस्‍तान (Pakistan) की एक ओर नापाक हरकत को भारत (India) ने अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर नाकाम कर दिया है. इससे पाकिस्‍तान को एक बार फिर कश्‍मीर (Kashmir) और भारत के खिलाफ अपने प्रोपेगेंडा फैलाने पर हार का मुंह देखना पड़ा है. दरअसल, भारत ने पाक को मात दी है पीओके के राष्‍ट्रपति के फ्रांस की संसद में आयोजित होने वाले एक कार्यक्रम को लेकर. पाकिस्‍तान 'PoK के राष्ट्रपति मसूद खान' का फ्रांस की संसद नेशनल असेंबली में एक कार्यक्रम कराना चाहता था, लेकिन भारत के कड़े विरोध के चलते बाद में उन्‍हें इस कार्यक्रम की इजाजत नहीं मिली.

जानकारी के अनुसार, फ्रांस की संसद में 'PoK राष्ट्रपति' का कार्यक्रम कराने की कोशिश में पाकिस्‍तान था. पेरिस (Paris) स्थित पाकिस्तानी दूतावास फ्रांस की संसद नेशनल असेंबली में PoK के 'राष्ट्रपति' मसूद खान का कार्यक्रम कराना चाहता था. मसूद खान को नेशनल असेंबली में एक कार्यक्रम के लिए चीफ गेस्ट के तौर पर उन्‍हें न्योता दिया गया था, लेकिन भारत ने पाकिस्तान की कोशिश को नाकाम करने के लिए हर कूटनीतिक प्रयास शुरू कर दिए.

LIVE TV...

इसके चलते भारतीय दूतावास ने फ्रांसीसी विदेश मंत्रालय (French Foreign Ministry) को डेमार्श जारी कहा कि इस तरह का न्योता भारत की संप्रभुता का उल्लंघन होगा, क्‍योंकि PoK समेत पूरा जम्‍मू-कश्‍मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है. इसके बाद उन्‍हें इस कार्यक्रम की इजाजत नहीं मिली. फिर उनकी जगह पाकिस्तान के राजनयिक मोइन-उल-हक कार्यक्रम में गए कार्यक्रम पूरी तरह फ्लॉप रहा. शामिल होने वालों में ज्यादातर पाकिस्तानी दूतावास के कर्मचारी थे.

बता दें कि बीते 23 सितंबर को मोइन-उल-हक PoK प्रेजिडेंट के सम्मान में डिनर का आयोजन करने वाले थे, लेकिन कार्यक्रम में बहुत कम लोगों के आने की आशंका में उन्हें आयोजन को रद्द करना पड़ा था. फ्रांस सरकार ने भी फ्रांस-पाकिस्तान फ्रेंडशिप ग्रुप को खान से दूरी बनाने और कार्यक्रम से दूर रहने को लेकर सख्त संदेश भेजा था.