close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रोज बढ़ रही है तिरुपति बालाजी में भक्तों की तादाद, सोमवार को चढ़ा करीब 4 करोड़ का चढ़ावा

 माना जाता है कि भगवान वेंकटेश्वर अपनी पत्नी पद्मावती के साथ तिरुमाला में निवास करते हैं. सोमवार (19 अगस्त) को 82,575 भक्तों ने तिरुपति बालाजी के दर्शन कर उनका आशीर्वाद लिया. 

रोज बढ़ रही है तिरुपति बालाजी में भक्तों की तादाद, सोमवार को चढ़ा करीब 4 करोड़ का चढ़ावा
फाइल फोटो

नई दिल्ली/तिरुमाला, डी.एम. शेषागिरी: तिरुपति के भगवान वेंकटेश्वर की महिमा के शायद ही कोई अंजान होगा. हर साल लाखों भक्त भगवान का आशीर्वाद लेने के लिए तिरुमाला में स्थित तिरुपति बालाजी मंदिर पहुंचकर उनका आशीष लेते हैं. माना जाता है कि भगवान वेंकटेश्वर अपनी पत्नी पद्मावती के साथ तिरुमाला में निवास करते हैं. सोमवार (19 अगस्त) को 82,575 भक्तों ने तिरुपति बालाजी के दर्शन कर उनका आशीर्वाद लिया. 

सर्वदर्शन का औसत समय अब 8 घंटे
तिरुपति बालाजी मंदिर दुनिया के सबसे धनवान मंदिरों और प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है. जानकारी के मुताबिक, सभी श्रद्धालु 31 कम्पार्टमेंट 'क्यू कॉम्प्लेक्स' में दर्शन के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं. मंदिर में सर्वदर्शन का औसत समय अब 8 घंटे कर दिया गया है. 

क्'€à¤¯à¤¾ आप अंदाजा लगा सकते हैं तिरुपति मंदिर के पास कितने हजार किलो सोना है... यहां जानें

3 करोड़ 92 लाख रुपये का चढ़ा चढ़ावा
34,929 भक्तों ने सोमवार को मुंडन कराया. सोमवार (19 अगस्त) को तिरुपति बालाजी मंदिर में चढ़ावे के रूप में करीब 4 करोड़ रुपये आए. जानकारी के मुताबिक, सोमवार को 3 करोड़ 92 लाख रुपये का चढ़ावा भक्तों के द्वारा चढ़ाया गया. 

लाइव टीवी देखें

भगवान विष्णु का हैं अवतार
आपको बता दें कि प्रभु वेंकटेश्वर या बालाजी को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है. ऐसा माना जाता है कि प्रभु विष्णु ने कुछ समय के लिए स्वामी पुष्करणी नामक तालाब के किनारे निवास किया था. यह तालाब तिरुमाला के पास स्थित है. तिरुपति के चारों ओर स्थित पहाड़ियां शेषनाग के 7 फनों के आधार पर बनीं 'सप्तगिरि' कहलाती हैं. श्री वेंकटेश्वरैया का यह मंदिर सप्तगिरि की 7वीं पहाड़ी पर स्थित है, जो 'वेंकटाद्री' नाम से प्रसिद्ध है.