British Isles की ओर बढ़ रहा 1 ट्रिलियन टन का बर्फीला पहाड़, टकराया तो होगा विनाश

वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि एक बर्फीला पहाड़ (Ice Mountain) ब्रिटिश टापू (British Isles) की और बढ़ रहा है. इससे हजारों सील मछलियों, पेंग्विन और दूसरे वन्यजीवों पर खतरा मंडराने लगा है. अगर यह टापू से टकराता है तो महाविनाश की स्थिति बन जाएगी.

British Isles की ओर बढ़ रहा 1 ट्रिलियन टन का बर्फीला पहाड़, टकराया तो होगा विनाश
ब्रिटिश टापू की ओर बढ़ रहा 1 ट्रिलियन टन का बर्फीला पहाड़

नई दिल्ली: एक ट्रिलियन टन के आइसबर्ग (Iceberg) की पहली तस्वीरें सामने आई हैं जो, ब्रिटिश टापू (British Isles) के तट को ओर बढ़ रहा है. वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि इस बर्फीले पहाड़ की वजह से हजारों सील मछलियों, पेंग्विन और दूसरे वन्यजीवों पर खतरा मंडराने लगा है.

जीवविज्ञानियों की मानें तो अगर A68a नाम का यह आइसबर्ग (Iceberg) टापू (Island) से भिड़ गया तो पर्यावरण को भयानक नुकसान हो सकता है और लाखों जानवरों के घरों के अस्तित्व पर खतरा पैदा हो जाएगा. एक आकलन के मुताबिक, इस आइसबर्ग का वजन एक ट्रिलियन टन है और यह 200 मीटर गहरा है. इसकी वजह से इसका जमीन से टकराने का खतरा दूसरे विशाल आइसबर्ग (Iceberg) की तुलना में कहीं ज्यादा है. 

आइसबर्ग ने तय किया है 10 हजार मील का सफर

यह आइसबर्ग (Iceberg) तीन साल पहले अंटार्कटिक आइस शेल्फ से कटकर अलग हो गया था. इस आइसबर्ग ने 10 हजार से ज्यादा मील का सफर तय किया है, जिसके बाद दक्षिण अटलांटिक (South Atlantic) में दक्षिण जॉर्जिया से 125 मील दूर पहुंचा है. ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे में मौजूद डॉ. ऐंड्रू फ्लेमिंग के मुताबिक, अगले दो से तीन हफ्ते में ही पता चल सकेगा कि यह तट से टकराएगा या गुजर जाएगा.

यह भी पढ़ें- दुनिया में मौजूद हैं Aliens, इस देश के साथ मिलकर कर रहे रिसर्च!

उन्होंने बताया कि यह दक्षिण जॉर्जिया के ही आकार का है. वैज्ञानिकों का मानना था कि फरवरी में महासागर में बहने के बाद A68a हजारों छोटे-छोटे टुकड़ों में टूट गया होगा लेकिन हैरान करने वाली बात रही कि वह अभी भी एक विशाल आकार में मौजूद है.

आइसबर्ग टूट कर बन सकते हैं खतरा

यह आइसबर्ग फिलहाल दुनिया में सबसे बड़ा है और इतिहास के पांच सबसे बड़े आइसबर्ग में से एक है. डॉ. फ्लेमिंग ने बताया कि इसका एक-चौथाई हिस्सा टूटकर अलग हो गया है. उन्होंने यह भी बताया कि इससे टूटकर अलग होने वाले हिस्से भी छोटे-छोटे आइसबर्ग की तरह हैं और इनसे जहाजों को खतरा पैदा हो सकता है.

यह भी पढ़ें- कई लाख सालों से शांत है दुनिया का सबसे खतरनाक ज्‍वालामुखी, फटने पर आएगी भयंकर तबाही

तट की ओर पानी का तापमान ज्यादा है और इससे टकराने वाली लहरें इसे तोड़ रही हैं. लेकिन राहत की बात यह है कि अगर यह आइसबर्ग दक्षिण जॉर्जिया से नहीं टकराया तो बड़ा विनाश टल जाएगा और ये धीरे-धीरे जाकर महासागर में मिल जाएगा. ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे के बायोलॉजिस्ट प्रोफेसर जेरायंट टार्लिंग ने चेतावनी दी है कि अगर यह टापू से टकरा गया तो विनाशकारी नतीजे होंगे. 

विज्ञान से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.