Life On Mars: मंगल पर मिले भयावह बाढ़ के निशान, हवा-पानी की खोज जारी

सौर मंडल को लेकर मन में कई सवाल रहते हैं. वैज्ञानिकों को मंगल ग्रह (Mars) पर भयावह बाढ़ के संकेत मिले हैं. इसकी मदद से वहां मौजूद पानी, हवा और दूसरे फैक्टर्स को समझा गया है. रोवर (Rover) को वहां विशाल लहरों के निशान मिले थे, जिससे पता चलता है कि वहां बाढ़ आई थी.

Life On Mars: मंगल पर मिले भयावह बाढ़ के निशान, हवा-पानी की खोज जारी
मंगल पर वैज्ञानिकों को मिले भयावह बाढ़ के निशान

नई दिल्ली: मंगल (Mars) ग्रह पर जीवन है या नहीं, इस सवाल का जवाब तलाश करने के लिए वैज्ञानिक (Scientists) दिन-रात लगे हुए हैं. रिसर्च में मंगल ग्रह के बारे में काफी नई जानकारी सामने आई है. इसी बीच वैज्ञानिकों ने हैरान कर देने वाली खोज की है. जैकसन स्टेट यूनिवर्सिटी, कॉर्नेल यूनिवर्सिटी, जेट प्रोपल्शन लैबोरेटरी और यूनिवर्सिटी ऑफ हवाई के वैज्ञानिकों को पता चला है कि मंगल ग्रह पर 4 अरब साल पहले भयानक बाढ़ आई थी.

लहरों के मिले निशान

वैज्ञानिक अल्बर्टो जी फाइरान ने बताया है कि Curiosity रोवर को मिले सेडिमेंटोलॉजिकल डेटा (Sedimentological Data) के आधार पर पहली बार भयानक बाढ़ का पता चला है. इससे पहले बाढ़ से पीछे रह गए डिपॉजिट्स को कभी पहचाना नहीं जा सका था. इसी महीने Scientific Reports जर्नल में छापी गई रिपोर्ट में Gale Crater और उसकी सेडिमेंटरी लेयर्स (Sedimentary Layers) से मिले डेटा को स्टडी किया गया है.

यह भी पढ़ें- अंतरिक्ष के Gravitational Force से दूर हुआ Mercury, अब इतने सालों बाद सूर्य से मिलेगा

इसकी मदद से पानी, हवा और दूसरे फैक्टर्स को समझा गया है. रोवर (Rover) को विशाल लहरों के निशान मिले थे, जिससे ये पता चलता है कि वहां बाढ़ आई थी. 

चांद पर तरल पानी हुआ करता था

शोधकर्ताओं का मानना है कि हो सकता है कि किसी उल्कापिंड की वजह से विशाल बाढ़ आई हो. इसकी वजह से मंगल ग्रह की बर्फ पिघल गई होगी और कार्बनडायऑक्साइड (Carbon Dioxide) और मीथेन (Methane) रिलीज होने लगीं. इससे मंगल पर हालात बदलने लगे होंगे. फिर भारी बारिश हुई होगी.

यह भी पढ़ें- काम की खबर: अब चांद पर भी होंगे अंतिम संस्कार, NASA ने पेश किए कई ऑफर

मंगल पर झील में जीवन है? इस सावल का जवाब वैज्ञानिकों के पास है. हालांकि इसका खुलासा अभी तक सही तरीके से नहीं किया गया है. अल्बर्टो का कहना है कि स्टडी इशारा करती है कि शुरुआती दिनों में मंगल के हालात ऐसे थे कि वहां तरल पानी हुआ करता था. इससे संकेत मिलते हैं कि वहां जीवन संभव था लेकिन क्या वहां जीवन था? इसके जवाब ढूंढने में Perseverance रोवर मदद कर सकता है.

विज्ञान से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.