close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सामने आई धोनी के संन्यास ना लेने की वजह, अगले साल टी20 विश्व कप जो होना है...

टीम प्रबंधन का मानना है कि धोनी अगर संन्यास ले लेते हैं और ऋषभ पंत चोटिल हो जाते हैं तो फिर टी20 विश्व कप के लिहाज से खालीपन आ जाएगा. 

सामने आई धोनी के संन्यास ना लेने की वजह, अगले साल टी20 विश्व कप जो होना है...
38 साल के महेंद्र सिंह धोनी (बाएं) 90 टेस्ट, 350 वनडे और 98 टी20 मैच खेल चुके हैं. (फोटो: Reuters)

नई दिल्ली: भारतीय चयनकर्ताओं ने वेस्टइंडीज दौरे (India vs West Indies) के लिए ऋषभ पंत को तीनों प्रारूपों के लिए भारतीय टीम (Team India) में शामिल किया है. इसकी एक वजह अनुभवी विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी भी हैं. एमएस धोनी (MS Dhoni) ने अगले दो महीने तक क्रिकेट से ब्रेक लेने का फैसला किया है. इसके बाद लोगों ने उनके संन्यास के कयास लगाने शुरू कर दिए थे. लेकिन सूत्रों का कहना है कि पंत को टी20 विश्व कप को ध्यान में रखकर टीम में चुना गया है. 

हालांकि टीम प्रबंधन यह भी नहीं चाहता है कि एमएस धोनी इस दौरान संन्यास ले लें. टीम प्रबंधन का मानना है कि धोनी अगर संन्यास ले लेते हैं और ऋषभ पंत (Rishabh Pant) चोटिल हो जाते हैं तो फिर टी20 विश्व कप के लिहाज से एक खालीपन आ जाएगा, जिसे भर पाना मुश्किल हो जाएगा. सूत्रों ने आईएएनएस से कहा, ‘धोनी अपनी भूमिका और स्थिति को जानते हैं. सभी उनके संन्यास के बारे में बात करते हैं और जब वे इसे छोड़ने का फैसला करेंगे तो यह समझ में नहीं आएगा कि वे टीम के खिलाड़ी हैं. वे कभी भी किसी विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया नहीं देंगे. मुझे यकीन है कि आप सभी उनकी नैतिकता के बारे में बहुत कुछ जानते हैं.’ 

यह भी पढ़ें: IPL में इतने करोड़ में बिके थे ये क्रिकेटर, अब पहली बार भारत की T20 टीम में हुआ चयन

उन्होंने कहा, ‘ऐसे में जब टीम प्रबंधन टी20 विश्व कप को ध्यान में रखकर पंत को बेहतर बना रहे हैं तो वे चाहते हैं कि धोनी एक मेंटर के रूप में रहें. जब भी टीम को उनकी जरूरत पड़े तो वे मौजूद रहें.’ सूत्र ने कहा, ‘आप देखें और बताएं कि अगर पंत चोटिल होते हैं तो कौन है जो उनका विकल्प होगा. सच कहूं तो दूसरी तरफ हमारे पास जितने भी नाम हैं, उनमें से कोई भी धोनी का मुकाबला करने के लायक नहीं है. हां, इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता है कि पंत टीम का भविष्य हैं और उन्हें सभी प्रारूपों में आजमाया जाए. लेकिन धोनी का मार्गदर्शन और मौजूदगी भी बहुत जरूरी है.’ 

यह भी पढ़ें: Ashes: चोट बढ़ा रही ऑस्ट्रेलिया की चिंता, क्या कप्तान के भरोसे पर फिट हो पाएंगे ख्वाजा

मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद (MSK Prasad) ने कहा था कि टीम पंत को सभी प्रारूपों के लिए देख रही है और यह धोनी को फैसला लेना है कि वे कब संन्यास ले रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘संन्यास का फैसला पूरी तरह से व्यक्तिगत है. धोनी जैसे दिग्गज क्रिकेटर अच्छी तरह से जानते हैं कि उन्हें कब संन्यास लेना है. लेकिन जहां तक भविष्य की बात है तो वह चयनकर्ताओं के हाथ में हैं. वे (धोनी) इस सीरीज के लिए अनुपलब्ध हैं.’ 

एमएसके प्रसाद ने कहा, ‘हमने विश्व कप तक एक रोडमैप तैयार किया था और हमारी आगे की योजनाएं भी तैयार है. हम फिलहाल, पंत जैसे खिलाड़ियों के कौशल को निखारना चाहते हैं. पंत ने कुछ भी गलत नहीं किया जिसके कारण हम उन्हें टीम में शामिल न करें.’