close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: ऋषभ पंत ने की 'धोनी' की नकल, फ्लॉप हुए तो तमतमाए विराट कोहली

 कोहली ने मैच के बाद इशारों-इशारों में नए खिलाड़ियों को सख्त संदेश दिया.

VIDEO: ऋषभ पंत ने की 'धोनी' की नकल, फ्लॉप हुए तो तमतमाए विराट कोहली
नाराज दर्शकों ने मैदान पर ही पंत को ट्रोल करना शुरू कर दिया.

नई दिल्ली: पीटर हैंड्सकोंब (117) और उस्मान ख्वाजा (91) के बीच तीसरे विकेट के लिए हुई 192 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी के बाद एश्टन टर्नर (नाबाद 84) की तूफानी पारी के दम पर ऑस्ट्रेलिया ने रविवार को खेले गए चौथे वनडे मैच में भारत को चार विकेट से हरा दिया. इस जीत के बाद ऑस्ट्रेलिया ने पांच मैचों की सीरीज में अब 2-2 से बराबरी हासिल कर ली है. 

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने रविवार को ऑस्ट्रेलिया के हाथों चार विकेट से मिली हार की वजह टीम की खराब फील्डिंग को बताया. उन्होंने साफ तौर पर स्वीकार किया कि खिलाड़ी मैदान पर ढीले थे और उन्हें मौकों का फायदा उठाना चाहिए था. इस मैच में महेंद्र सिंह धोनी को आराम दिया गया था और उनकी जगह ऋषभ पंत को मौका दिया गया लेकिन वह प्रभावित करने में विफल रहे. उन्होंने स्टंपिंग में भी कई मौके गंवाए. 
 
43.1 ओवर में चहल की गेंद पर पंत ने स्टंपिंग का चांस गंवाया. उस समय टर्नर क्रीज पर थे. नाराज दर्शकों ने मैदान पर ही पंत को ट्रोल करना शुरू कर दिया. इसके बाद, इसी ओवर की तीसरी गेंद पर ऋषभ पंत ने धोनी के अंदाज में एलेक्स कैरी को रनआउट करने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हुए. चहल की गेंद कैरी के पैड्स पर लगी और पंत के बाईं ओर गई. पंत ने गेंद का पीछा किया और बिना देखे धोनी के अंदाज में स्टंप पर निशाना लगाने की कोशिश की लेकिन वह चूक गए. गेंद जब दूर चली गई तब कैरी ने एक रन चुरा लिया. 

 

 

पंत द्वारा एक के बाद एक की गईं कई गलतियों से कोहली झल्ला उठे. कोहली ने मैच के बाद इशारों-इशारों में नए खिलाड़ियों को सख्त संदेश दिया. उन्होंने कहा, "सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हम मैदान में सुस्त थे। हमें जो भी मौके मिले थे उन मौकों का फायदा उठाना चाहिए था. हम उन मौकों को अपने पक्ष में भुनाने में विफल रहे और मैच हमारे हाथ से निकल गया। पूरे खेल के दौरान विकेट अच्छी थी, लेकिन अंत में गेंदबाजी करना थोड़ा मुश्किल हो गया."  

उधर, धवन ने टीम के अपने जूनियर साथी ऋषभ पंत के प्रति सहानुभूति जताई जिन्होंने विकेट के पीछे काफी खराब प्रदर्शन किया. उन्होंने कहा, "किसी भी अन्य युवा खिलाड़ी की तरह आपको उसे भी समय देना होगा। मेरे कहने का मतलब है कि धोनी भाई ने इतने वर्षों में सारे मैच खेले हैं. आप उनसे तुलना नहीं कर सकते." धवन ने कहा, "हां, अगर वह स्टंपिंग कर देता तो शायद मैच बदल सकता था लेकिन यह तेजी से हमारे हाथों से फिसल गया और इसमें ओस ने अहम भूमिका निभाई। यह ऐसा ही था."