सचिन के दोहरे शतक पर डेल स्टेन का किया दावा सिर्फ एक झूठ! ये हैं सच्चाई बयां करने वाले आंकड़े

दक्षिण अफ्रीका के महान तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने गॉड ऑफ क्रिकेट सचिन तेंदुलकर के वनडे दोहरे शतक पर अपना दावा पेश कर क्रिकेट की दुनिया में शनिवार को सनसनी फैला दी थी.

सचिन के दोहरे शतक पर डेल स्टेन का किया दावा सिर्फ एक झूठ! ये हैं सच्चाई बयां करने वाले आंकड़े
सचिन तेंदुलकर (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के महान तेज गेंदबाज डेल स्टेन (Dale Steyn) ने गॉड ऑफ क्रिकेट सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के वनडे दोहरे शतक पर अपना दावा पेश कर क्रिकेट की दुनिया में शनिवार को सनसनी फैली दी थी. स्टेन ने कहा था कि उन्होनें सचिन को ग्वालियर में 190 पर ही ढेर कर दिया था पर अंपायर ने सचिन को आउट देने से मना कर दिया.

स्टेन ने अंपायर इयान गोल्ड पर आरोप लगाया था कि उन्होनें सचिन को भारतीय फैन्स के डर की वजह से आउट नहीं दिया था और इसी कारण सचिन इस मैच में 200 रन बनाने में कामयाब हुए थे. सचिन ने उस मैच में 147 गेंदों पर 200 रन की धुंआधार पारी खेलकर इतिहास रच दिया था. वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक बनाने वाले सचिन पहले खिलाड़ी बने थे.

ये भी पढ़ें: अफरीदी पर बरसे युवी, भज्जी बोले - तुमने दिखा दी अपनी औकात, दोस्ती के काबिल नहीं

स्टेन ने जेम्स एंडरसन के साथ बातचीत के दौरान इस किस्से पर चर्चा की थी और बताया था कि- 'तेंदुलकर ने हमारे खिलाफ ग्वालियर में वनडे क्रिकेट में पहला दोहरा शतक बनाया और मुझे वास्तव में याद है, मुझे लगता है कि जब वो करीब 190 रन के स्कोर पर थे तो मैंने उन्हें एलबीडब्लू आउट कर दिया था. उस मैच में इयान गोल्ड अंपायर थे और उन्होंने सचिन को नॉट आउट करार दिया.'

स्टेन ने आगे कहा था, 'मैंने फिर इयान गोल्ड से पूछा कि आपने सचिन को आउट क्यों नहीं दिया? इसके बाद गोल्ड ने मुझसे कहा कि चारों ओर देखो, अगर मैंने सचिन को आउट दे दिया, तो मैं होटल में वापस नहीं जा पाउंगा.'

क्या वास्तव में स्टेन का दावा सच है? आपको क्या लगता है? आइए जानते है स्टेन के दावे की सच्चाई.

उस मैच की हकीकत ये है कि सचिन ने 190 और 200 रन के बीच स्टेन का सामना सिर्फ तीन बार किया और वो तीनों गेंदें सचिन ने बैट से खेली थी न कि पैड से, तो फिर सचिन एलबीडब्ल्यू कैसे हो सकते थे. दरअसल सचिन ने वो तीनों गेंदें अपने बैट के बीचों-बीच खेली थीं और ऐसे में सचिन किसी भी हालात में एलबीडब्ल्यू आउट नहीं हो सकते थे.

ये पूरा किस्सा स्टेन की कपोल कल्पना के अलावा और कुछ भी नहीं क्योंकि सचिन ने 150 का आंकड़ा पार करने के बाद स्टेन की सिर्फ वही तीन गेंदें खेली थी जिनका जिक्र हमने अपनी ऊपर की पंक्तियों में किया है. इसके अलावा स्टेन ने इस मैच में सचिन को 31 गेंदें और फैंकी थी पर इन 31 गेंदों में से किसी पर भी स्टेन ने सचिन के खिलाफ एलबीडब्ल्यू की कोई भी अपील नहीं की थी. जब अपील हुई ही नहीं तो भला सचिन आउट कैसे हुए? ये आंकड़े स्टेन के दावे को सरासर खारिज करते हैं और सचिन को उनके ऐतिहासिक दोहरे शतक के लिए एक बार फिर सलाम करते हैं.