मिल्खा सिंह की आखिरी ख्वाहिश- ओलंपिक में जो गोल्ड मुझसे गिर गया था, वो कोई जीत कर लाए

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने बीजेपी के महासंपर्क अभियान के तहत बुधवार को मिल्खा सिंह (Milkha Singh) से मुलाकात की. 

मिल्खा सिंह की आखिरी ख्वाहिश- ओलंपिक में जो गोल्ड मुझसे गिर गया था, वो कोई जीत कर लाए
मिल्खा सिंह रोम ओलंपिक में काफी करीब से मेडल जीतने से चूक गए थे. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारत ने तमाम क्षेत्रों की भांति खेलों में भी तेजी से तरक्की की है. आज की तारीख में भारत के पास बैडमिंटन से लेकर शूटिंग तक में वर्ल्ड चैंपियन है. इसके बावजूद ‘उड़न सिख’ मिल्खा सिंह (Flying Sikh Milkha Singh) की ख्वाहिश अधूरी है. 1950-60 के दशक के इस मशहूर धावक का कहना है कि वे दुनिया छोड़ने से पहले भारत को एथलेटिक्स में ओलंपिक मेडल जीतते देखना चाहते हैं. मिल्खा सिंह रोम ओलंपिक (Rome Olympics) में काफी करीब से मेडल जीतने से चूक गए थे. वे तब चौथे स्थान पर रह गए थे. 

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) बीजेपी के महासंपर्क अभियान के तहत बुधवार को फ्लाइंग सिख यानी मिल्खा सिंह (Milkha Singh) के घर पहुंचे. उन्होंने इस महान एथलीट से राजनीति से लेकर खेलों तक हर विषय में बात की. मिल्खा सिंह ने बाद में ‘ज़ी न्यूज’ से बताया कि उन्होंने केंद्रीय मंत्री से कहा कि क्रिकेट के अलावा अन्य खेलों को आगे बढ़ाया जाए. 

यह भी पढ़ें: Ashes: बेन स्टोक्स ने उड़ाई ऑस्ट्रेलियाई कप्तान की नींद, कहा- पहले ऐसा कभी नहीं हुआ

मिल्खा सिंह ने कहा, ‘मैं आज जहां भी जाता हूं वहां बच्चे क्रिकेट खेलते दिखते हैं. हमने बैडमिंटन, कुश्ती और कुछ अन्य खेलों को छोड़कर बाकी खेलों में कभी भी अच्छा प्रदर्शन नहीं किया. मैं चाहता हूं कि सरकार एथलेटिक्स जैसे खेलों को आगे बढ़ाए. मेरी आखिरी ख्वाहिश है कि जो गोल्ड मेडल मुझसे रोम ओलंपिक में गिर गया था, वह मेडल कोई भारतीय जीते. मैं दुनिया छोड़ने से पहले भारत को ओलंपिक (Olympics) में एथलेटिक्स में गोल्ड मेडल जीतते देखना चाहता हूं.’

मिल्खा सिंह ने खेलों से इतर राजनीति पर भी बात की. उन्होंने कहा कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों से बेहद खुश है. उन्होंने यह भी कहा कि जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने का फैसला बिल्कुल सही था.  उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की नीतियों का प्रचार खुद भी करेंगे और आगे इसमें शामिल होंगे.