Assembly elections 2017 News

alt
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के नतीजे आ चुके हैं। भारतीय जनता पार्टी प्रचंड बहुमत के साथ प्रदेश में सरकार बनाने जा रही हैं। लेकिन प्रदेश का मुख्यमंत्री कौन होगा? यह अभी तक तय नहीं हो पाया है। राजनीतिक पंड़ितों द्वारा अनुमान लगाना जारी है। अनुमान है कि कई कद्दावर और चर्चित चेहरों के बीच एक नया और चौंकाने वाला नाम सामने आएगा। इस रेस में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य, केंद्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा, सांसद योगी आदित्यनाथ, लखनऊ के मेयर और भाजपा नेता दिनेश शर्मा और भाजपा के राष्ट्रीय सचिव श्रीकांत शर्मा और आठ बार के विधायक सुरेश खन्ना आगे चल रहे हैं। इनमें से किस पर मुहर लगेगी अभी कह पाना मुश्किल है।
Mar 14,2017, 15:00 PM IST
alt
Mar 12,2017, 16:57 PM IST
alt
Mar 11,2017, 22:58 PM IST
alt
उत्तर प्रदेश का जनादेश इस बात को पुष्ट करता है कि पारिवारिक कलह और अखिलेश सरकार के मंत्रियों के कारनामों ने समाजवादी पार्टी की नैया को पूरी तरह से डुबो दिया। कोशिश तो यह थी कि पारिवारिक ड्रामे की आड़ में एंटी इनकंबेंसी फैक्टर को कम किया जाए, लेकिन अखिलेश का 'काम बोलता है' का नारा मतदाताओं को बिल्कुल रास नहीं आया। पारिवारिक कलह की वजह से अखिलेश ने पार्टी की कमान भले ही संभाल ली, लेकिन टिकटों के बंटवारे में गुटबाजी ने पार्टी को भारी नुकसान पहुंचाया। 'यूपी को ये साथ पसंद है' का नारा देकर कहां 300 से अधिक सीटें जीतने का दावा करने वाली अखिलेश की पार्टी 60 सीटों में सिमटती दिख रही है।
Mar 11,2017, 15:49 PM IST
alt
Mar 11,2017, 13:50 PM IST
Read More

Trending news